अंक ज्योतिष भाग-8

बात करते हैं अगर हम ज्योतिष शास्त्रों में अंक ज्योतिष की तो आप सभी लोगों को अंक ज्योतिष के बारे में पता ही होगाऔर अगर नही पता तो इसके बारे में जानकारी हम ज्योतिषाचार्य के.एम.सिन्हा जी के द्वारा जानेगें। आपको बता दें भाग्यांक 8 वाले जातकों का व्यक्तित्व बहुत असाधारण होता है, जिसे समझ पाना बहुत आसान नही होता है। कई बार तो ऐसा होता है कि लोग इनकी पर्सनैलिटी को समझ नही पाते हैं। जब आप इन व्यक्तियों के साथ एक बहुत लम्बा वक्त बितायेंगे तब आप इनके व्यक्तित्व और महत्व को भली-भाँति जान सकते है। वास्तव में इस अंक के जातक बहुत कम दिखावा करते हैें, और वास्तविकता पर ज्यादा ध्यान देने वाले होते हैं। आपको बता दें 8 अंक वाले जातकों का स्वामी शनि ग्रह होता है। जिसके कारण इस अंक के जातक किसी बात या कार्य में अति कर देने वाले चरम्पंथी स्वभाव के होते हैं। इस अंक वाले व्यक्तियों का स्वभाव कुछ ऐसा होता है कि जिस भी कार्य को करते हैें उसे पूरी चेतना और लग्न के साथ करना जानते हैं। यह व्यक्ति कभी भी अपने काम को बीच से छोड़कर भागते नही हैं जब तक अपने काम को पूरी तरह पूरा नही कर लेते हैं।

भाग्यांक 8 वाले जातकों का स्वभाव और गुण:
भाग्ययांक 8 वाले जातकों के स्वभाव और गुणो की बात करे तो इनका जीवन संघर्षों से काफी भरा हुआ होता है। जिसके कारण यह व्यक्ति अपने साहस और कड़ी मेहनत से सफलता की सीढ़ियाँ चढे़गा। साथ ही इस अंक के जातक अपनी किसी भी परेशानियाँ को अपने साहस के दम पर दूर करने का प्रयास करेगा। अपने किसी भी कामों को करके ही अपने जीवन में आगे बढ़ेते हैं यह व्यक्ति अपने आप में बहुत जिम्मेदार होते हैं और गंभीर विचारों के स्वामी भी होते हैं। इन व्यक्तियों के अन्दर का साहस ओर लग्न देखकर ही लोग समाज में उन्हें इज्जत और सम्मान देते हैं। यह व्यक्ति कभी किसी से भी डरते नही है और एकदम स्पष्ट बात बोलने वाले होते हैं। इनका किसी भी कामों में इतना ज्यादा बलिदान होता है की यह सभी लोग अपनी इच्छा को पूर्ण करने के लिए बड़े से बड़ा त्याग करने केा तैयार रहते हैं। साथ ही अंक 8 वाले जातक बहुत भाग्यशाली होते हैं। इस अंक के जातक हमेशा कठिन कामों को ही करने का प्रयास करते हैें साथ ही साथ कम बोलने में विश्वास रखते हैं।

अंक आठ वाले जातकों के कुछ सकारात्मक पहलू:
अंक 8 वाले जातकों के कुछ सकारात्मक पहलुओं की बात करें तो यह जातक बहुत ही दृढ़ और कठोर व्यक्ति होते हैं जिसके कारण यह व्यक्ति अपने इरादे के बहुत पक्के भी होते हैं। यह व्यक्ति एक अच्छे सुपरवाइजर भी होते हैं आपके अन्दर एक एग्जक्यूटिव क्वालिटी भी होती है। इस अंक वाले व्यक्ति दूसरे लोगों से बिल्कुल अलग स्वभाव के होते हैं जिसके अन्दर हर एक तरह के काम करने की क्षमता होती है। यूँ कहें तो इन्हें किसी भी प्रकार का कार्य दिया जाए तो भी उसे बखूबी निभाने की क्षमता रखते हैें। इस अंक के व्यक्ति किसी भी संस्था को बड़ी ही कुशल तरीके से चलाने के सक्षम होते हैं। इनके अन्दर एक सबसे अच्छी सकारात्मक बात यह होती है कि किसी भी काम को करने के पीछे इनका कोई न कोई मकसद अवश्य होता है। इसके अलावा यह व्यक्ति बहुत महत्वकांक्षी और भौतिकवादी भी होते हैं। यह व्यक्ति अपने मन में आयी हुई किसी भी अभिलाषाओं को पूरा करने के लिए निरन्तर प्रयासरत करते हैं। इस अंक वाले जातकों के अन्दर स्त्री और पुरूष की सभी विशेषताएँ देखने को मिलती है।

READ ALSO   Daily Horoscope, Aaj Ka Rashifal आज का राशिफल, 18 April 2024 In Hindi | KUNDALI EXPERT |

भाग्यांक आठ वाले जातकों के कुछ नकारात्मक पहलू:
भाग्यांक 8 वाले जातकों के कुछ नकारात्मक पहलुओं की बात करे तो इन व्यक्तियों में सम्मान और सफलता पानें की बहुत अधिक लालसा होती है यूँ कहें तो यह व्यक्ति केवल सम्मान पाने के लिए ही मरते रहते हैं। इस अंक के व्यक्ति सफलता पाने में इतना लगे रहते हैं कि जल्दी-जल्दी सफलता पाने की कोशिश करते हैं और कभी-कभी तेजी से आगे बढ़ने की होड़ में यह व्यक्ति निष्ठुर (उग्र) हो जाते हैं। इस भाग्ययांक वाले जातक अपने किसी भी काम को अपने तरीके से करने की कोशिश में लगे रहते हैं जिसके कारण उनके साथ काम करने वाले सहकर्मी उन्हें अपनी शत्रु समझ बैठेते हैं। अंक 8 वाले जातकों को किसी के ऊपर भी बहुत ज्यादा विश्वास नही करना चाहिए, अन्यथा यह आगे चलकर आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है। इस अंक के जातकों के जीवन में बहुत सारे उतार-चढ़ाव आते हैं इसलिए आपको अपने जीवन में धैर्य से काम लेना चाहिए। यह व्यक्ति अपने किसी भी महत्वकांक्षाओं को पूरा करने के लिए कभी-कभी बहुत कठोर और जिद्दी हो जाते हैं।

भाग्यांक आठ वाले जातकों का शुभ दिन क्या है:
भाग्यांक 8 वाले जातकों के लिए उनका कौन-कौन सा दिन उसके लिए शुभ है इसे जानते हैं। इन जातको के लिए शनिवार, बुधवार, शुक्रवार, सोमवार और गुरूवार का दिन विशेष रूप से मायने रखता है यह अवश्य ही इन्हे शुभता प्रदान करने वाला होता है। इसके अलावा भाग्यांक 8 वाले जातकों का शुभ महीना अक्टूबर और नवंबर होता है। इन जातकों के लिए विशेष रूप से शुभ तारीख 8, 17 और 26 होती है। कहा जाता है कि दो सही मूलांक वाले जातकों का कुण्डली मिलान करने से जो भी कपल होंगे यह सदैव खुश रहते हैं। वहीं दूसरी ओर देखा जाए यदि दो जोड़े वाले लोगों का गलत मूलांक मिला दिया जाए तो ऐसे वैवाहिक जोड़े जीवनभर दुःखी रहते हैं और उनके बीच रिश्ता बहुत मधुर नही हो पाता है हमेशा कलह वाली स्थित बनी रहती है।
मूलांक 8 शनि ग्रह का अंक होता है:
ज्योतिष शास्त्रों में मूल अंक 8 की बात करे तो आपको यह बात पता होगी की शनि ग्रह को रहस्यों का प्रतीक माना जाता है। और कई सारे अंकों में शनि ग्रह का प्रभाव मूलांक 8 पर होता है। आपको बता दें कि जो व्यक्ति किसी भी महीने की 8, 17 और 26 तारीख को जन्म लेता है उनका मूलांक 8होता है। इसके अलावा जिस किसी भी व्यक्ति का जन्म तारीख महीना, और वर्ष तीनो का ही योग 8 होता है और वो ही इनका भाग्यांक होता है।

कैसे होते हैं मूलांक 8 वाले जातकों के जीवनसाथी:
भाग्यांक 8 वाले जातकों के जीववनसाथी की बात करेें तो इस अंक वाले जातक किसी व्यक्ति को समझने में तो बहुत अच्छे होते हैं परन्तु यदि यह व्यक्ति किसी के साथ रिलेशनशिप में हैं तो उन्हें अपने मन में चल रहें विचारों को उनके सामने व्यक्त करने की कला नही आती है। इन व्यक्तिमयों का अपने जीवनसाथी के प्रति स्वभाव कुछ ऐसा होता है कि यह अपने पार्टनर पर खर्च तो करते हैं परन्तु अपने पार्टनर को यह भावनात्मक रूप से किसी भी प्रकार का समर्थन प्रदान नहीं कर पाते हैं। जरूरत से ज्यादा खर्च करना इनके लिए भविष्य में परेशानी खड़ी कर सकता है। इन व्यक्तियों का स्वभाव अपने पार्टनर के मामले में नरम् होता है कि किसी के साथ भी यह व्यक्ति बेवफाई करना पसंद नही करते नाही यह चाहते हैं कि उनके साथ बेवफाई करें । कुल मिला-जुलाकर बेवफाई वाली चीजें ये बर्दाश्त नही कर सकते हैं। इस मूलांक वाले व्यक्ति सच्चे दिल के और मजबूत इरादे वाले प्रेमी होते हैं औैर साथ ही यह व्यक्ति अपने प्यार के रिश्ते को साबित करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। परन्तु कुल मिला जुलाकर यह व्यक्ति अपने पैसे के दम पर किसी भी रिलेशनशिप में बिल्कुल भी नही रह सकते हैं। आपको बता दें मूलांक 8 वाले जातकों के लिए 2 अंक और 6 अंक वाले लोग बहुत ही बेस्ट पार्टनर साबित हो सकते हैं। जो कि आपके जीवन में आकर सभी कार्यभार को संभालने के लिए तैयार रहेंगे और आपके किसी भी लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपका पूरा-पूरा साथ देंगे और उसके लिए अग्रसर करेंगे।

READ ALSO   नवरात्रि के सातवें दिन करें ये खास उपाय 2023

कौन साथ व्यापार होगा मूलांक 8 वाले जातकों के लिए फलदायी:
बात करें अगर मूलांक 8 वाले जातकों के व्यापार की, कि कौन सा व्यापार करना इनके लिए फलदायी होगा तो आपको बता दें मूलांक 8 वाले जातक का क्योंकि शनि ग्रह होता है इसलिए इनकों अपने कार्यक्षेत्र में शनि ग्रह से सम्बन्धित कोई भी कार्य करना चाहिए। विशेष रूप से मूलांक 8 वाले जातक को इंजीनियरिंग के क्षेत्र में, इलेक्ट्राॅनिक्स के क्षेत्र में, आॅटोमोाबाइल्स के क्षेत्र से सम्बन्धित कार्य करना चाहिए। इसके अलावा तेल, पेट्रोल पंप से सम्बन्धित कार्य, रियल ऐस्टट, कंस्ट्रक्शन और लोहे की वस्तुओं से संबंधित व्यापार करें तो इससे आपको निश्चिक रूप से अवश्य सफलता की प्राप्ति होगी।

किसी प्रकार के अशुभ प्रभाव में करें यह उपाय:
आपको यह पता होगी की शनि ग्रह आपका स्वामी ग्रह होता है, ओर अंक पाठ वाले जातक कर्म प्रधान होते हैं। भाग्य इनका कई बार साथ नही देता है। इन लोगों को अपने भाग्य को हमेशा चमकदार बनाने के लिए तथा अपने जीवन में सुख शांति प्रदान करने के लिए आपको प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव जी का पूरे विधी विधान से रूद्राभिषेक करना चाहिए। इसके अलावा शनि ग्रह की शांति के लिए पक्षियों को नियमित रूप से दाना डालना चाहिए। इसके अलावा मूलांक 8 वाले जातकों को काले रंग के श्वान को घी लगी हुई रोटी खिलानी चाहिए। ऐसा करने से आपके जीवन में पड़ रहे अशुभ प्रभाव बहुत जल्द ही दूर हो जायेंगे और आप एक सुखी जीवन जी पायेंगे।
मूलांक 8 वाले जातकों के जीवन में नीचे दि गई निम्न तिथियाँ शुभत्व प्रदान करने वाली होती हैं।
सर्वोत्तम् शुभता प्रदान करेंगी – 8,17, और 26 तारीखें।
उत्तम् शुभता प्रदान करेगी – 4, 13, 22 और 31 तारीखें।
यदि ऊपर दिये गये तारीख को शनिवार, रविवार या सोमवार पड़ रहा हो तो उस दिन किया गया आपका कोई भी कार्य अवश्य ही आपको सफलता की प्राप्ति करायेगा और यदि इन तारीखों में आने वाले शनिवार वाले दिन को आप ज्यादा महत्व देंगे तो यह आपके जीवन में हर तरह से शुभ फल देने वाला होगा।

READ ALSO   शेयर मार्केट में लाभ के लिए अपनाये ये उपाय, जाने शेयर मार्केट में लाभ हानि के लिए कौन-सा ग्रह

मूलांक 8 वाले जातकों के क्या शौक होते हैं:
मूलांक 8 वाले जातकों के शौक की बात करें तो यह जातक खानपान के बहुत ज्यादा शौकिन होते हैं। इन्हें देखा जाए तो बहुत तीखा, तेज मिर्च मसाले वाला तला भुना हुआ खाना ज्यादा पसंद होता है। ये व्यक्ति शीतल पेय कमे भी शौकिन होते हैं। साथ ही आइसक्रीम और बर्फ के गोले खाना इन्हें बहुत ज्यादा पंसद होता है।

आपके जीवन में कौन-कौन से वर्ष श्रेष्ठता प्रदान करते हैं।:
सर्वोत्तम शुभता प्रदान करने वाला वर्ष – 8,17,26,35,44,53,62, और 71 वर्ष।
उत्तम शुभता प्रदान करने वाले वर्ष -4,13,22,31,40,49,58 और 67 वर्ष।
मूलांक 8 वाले जातकों के जीवन में 21 दिसंबर से 19 फरवरी तथा 21 सितंबर से 19 अक्टूबर तक का समय आपके जीवन में श्रेष्ठता प्रदान करता है इसके अलावा दिसम्बर, जनवरी, मार्च, और अपै्रल का महीना आपके लिए अशुभ्ता प्रदान करने वाला हो सकता है। यह समय देखा जाए तो आपको व्यर्थ के भटकाव, व्यापार में हानि तथा फालतू का आपके जीवन में उथल-पुथल करने वाला होता है।
मूलांक8 वाले जातकों को अपने घर में की दीवारें सजावट के लिए, ड्राइंगरूम की सजावट के लिए, साथ ही अपने घर के पर्दे, जालियाँ, कपडे़ बैडशीट, कुशन, पर्दे, तकिए का गिलाफ, फर्नीचर आदि के लिए काला रंग, पीला रंग, नीला रंग, गहरा रंग, सफेद रंग, भूरा रंग और बैगनी रंग में रखना चाहिए। यदि आपने अपनें घर के किसी भी चीजों में हल्का व चटक रंग का प्रयोग किया है तो यह आपको शुभ फल नहीं देने वाला होता है। देखा जाए तो यह रंग मूलांक 8 वाले जातकों को शुभ फल की प्राप्ति नही कराता है अशुभ फल प्रदान करता है। यह रंग मूलांक 8 वाले जातकों के लिए ऐश्वर्य व वृद्धि प्रदान कराने वाला व अपनें किसी भी प्रकार के रोग से छुटकारा प्राप्त कराने वाला होता है।

मूलांक 8 वाले जातकों के जीवन में कुछ भी अहित होनें, किसी भी प्रकार के अशुभ योग होनें, किसी प्रकार के रोगों से ग्रस्त होने पर या कोई घटना घटित होन पर ऊपर दिये गये यंत्रों का उपयोग करना चाहिए। ऊपर दिये गये यंत्रों को किसी योग्य ज्योतिषी के द्वारा दिये गये शुभ मुहुर्त के दिन जस्ते या लोहे की अंगूठी में जड़वा कर उसके प्राण और प्रतिष्ठा की पूरी व्यवस्था करके पूजा करनी चाहिए साथ ही नीचे दिये गये निम्न मंत्रों का जाप पूरे विधि पूर्वक करना चाहिए।

नीलांज नामं मिहिरेष्ट पुत्रं,
ग्रहेश्वरं पाश भुजंग पाणिम्।
सुरा सुराणां भयंक द्विबाहु,
स्मरे शनिं मानस पंकजेऽहम्।
ओम ऐं कीं श्रीं शनैश्चराय नमः ।।

इन मंत्रों का जाप यथाशक्ति करने के बाद तेल, तिल, जूते, पंचधातु, लोहा, उड़द का दाल, कृष्ण वस्त्र, गौ, भैंस का दान करना चाहिए इससे आपके जीवन में कोई भी बाधा और विघ्न आ रहे होंगे तो वह सब दूर हो जायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *