आइए जानते है चेहरे और शरीर पर तिल होने का ज्योतिष कारण और महत्व

हमारे शरीर के अंगो पर पाये जाने वाले तिल को लेकर कई तरह की मान्यताएं हैं कुछ लोग तिल को शुभ मानते है तो कुछ लोग तिल में अपना चमकता हुआ भाग्य तलाशते है। शरीर के हर तिल की अपनी एक अलग महत्ता है।

शरीर पर तिलों का रहस्य

☸ चेहरे पर तिल का रहस्य शिक्षा मनुष्य के भाग्य से होता है।
☸ गालों पर तिल का होना आपकी आकर्षण क्षमता को मजबूत करता है।
☸ चेहरे पर मौजूद तिल धन लाभ कराता है।
☸ नाक पर तिल का होना व्यक्ति को बहुत ज्यादा अनुशासित बना देता है ऐसे लोगों के जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है।
☸ नाक के नीचे तिल होना बताता है कि व्यक्ति के ढे़र सारे चाहने वाले है लेकिन ऐसे लोग कम लोगो से लगाव रखते है।
☸ माथे पर तिल होना बताता है कि आप शुरुआत में खूब संघर्ष करेंगे। माथे पर तिल संघर्ष के बाद धनवान बनाता है।
☸ होठो पर तिल होना बताता है कि आप बहुत ज्यादा प्रेमी स्वभाव के ऐसे व्यक्ति को रोज प्रेम होता है।

शरीर के अलग जगहों पर तिल का रहस्य

आइए जानते है चेहरे और शरीर पर तिल होने का ज्योतिष कारण और महत्व 1

☸ हाथ के अगर बीचों बीच में तिल हो तो ये व्यक्ति को सम्पन्नता देता है। अगर यह तिल पर्वत पर या उंगली पर हो तो दुर्भाग्य का कारण बनता है।
☸ पैरो के तलवे का तिल हमेशा व्यक्ति को घर से दूर ले जाता है और बड़ी सफलता देता है।
☸ सीने पर तिल का होना यह बताता है कि व्यक्ति को पारिवारिक बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।
☸ पेट पर तिल व्यक्ति को धन देता है पर स्वास्थ्य खराब करता है।
☸ तिल के ऊपर बाल का होना अशुभ होता है।
☸ तिल यदि बड़ा हो तो शुभ होने के साथ शगुन बढ़ाता है।
☸ तिल गहरे रंग का हो तो माना जाता है कि बड़ी बाधाएं सामने आयेगी।
☸ हल्के रंग का तिल सकारात्मक विशेषता का सूचक माना जाता है।

READ ALSO   कौन है बंगलामुखी माता

यह पढ़ेंः- कुण्डली का दशम भाव में शुक्र का फल

लाल तिल का अर्थ

काले तिलों के अलावा शरीर पर लाल तिल भी होते हैं। ज्योतिष के जानकारों की माने तो लाल तिलों का अपना अलग महत्व है और ये अपनी मौजूदगी के हिसाब से ही प्रभाव देते है।

लाल तिल के प्रभाव

लाल तिल सम्पन्नता और दुर्भाग्य दोनों का प्रतीक होता है। अगर ये चेहरे पर हो तो वैवाहिक जीवन और पारिवारिक जीवन में दुर्भाग्य लाता है। अगर यह बाहों पर हो तो आर्थिक मजबूती लाता है। अगर ये सीने पर हो तो व्यक्ति विदेश जाता है। सीने पर लाल तिल होने से व्यक्ति खूब धन कमाता है। अगर लाल तिल पीठ पर हो तो सेना या साहस के क्षेत्र में सफलता मिलती है।

हर तिल का अपना अलग महत्व

☸ माथे के तिल जो बीच में हो एक निर्मल प्रेम की निशानी है।
☸ माथे के दाहिने तरफ का तिल किसी विषय विशेष गुण में निपूर्णता का प्रतीक होता है।
☸ माथे के बायी तरफ का तिल फिजूलखर्ची का प्रतीक होता है।
☸ दोनों भौंहो पर तिल हो तो व्यक्ति अक्सर यात्रा करता है।
☸ दाहिनी भौंह पर तिल सुखमय दाम्पत्य जीवन तथा बायी भौंह पर तिल दुखमय दाम्पत्य जीवन का संकेत देता है।
☸ आंख की दायी पुतली पर तिल हो तो व्यक्ति के विचार है।
☸ आंख की बायी पुतली पर तिल हो तो व्यक्ति के विचार ठीक नही होते है।
☸ आंख की पुतली पर तिल वाले लोग भावुक होते है।
☸ आंख की पलकों पर तिल हो तो जातक संवेदनशील होता है।
☸ दायी पलक पर तिल वाले बायी वालों की अपेक्षा अधिक संवेदनशील होते है।

READ ALSO   जुन में बुध का गोचर, इन राशियों के जीवन में मचा सकता है हाहाकार
उंगली पर तिल का महत्व

आइए जानते है चेहरे और शरीर पर तिल होने का ज्योतिष कारण और महत्व 2

☸ अंगूठे पर तिल हो तो व्यक्ति कार्य कुशल, व्यवहार और न्यायप्रिय होता है जिसकी तर्जनी पर तिल हो तो वो विद्यवान, गुणवान और धनवान किन्तु शत्रुओं से पीड़ित होता है।
☸ मध्यमा पर तिल उत्तम फलदायी होता है।
☸ ऐसे लोग सुखी रहते हैं और उनका जीवन शांतिपूर्ण होता है।
☸ जिसकी अनामिका पर तिल हो तो वो ज्ञानी, यशस्वी, धनी और पराक्रम होता है।
☸ कनिष्ठा पर तिल हो तो व्यक्ति संपत्तिवान होता है किन्तु उसका जीवन दुखमय होता है।