ऐशोआराम की जिन्दगी जीते हैं इस राशि के लोग

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 12 राशियां होती हैं और सभी राशियों का अपना एक विशेष महत्व है। जैसे कुछ राशियों में यात्रा करना, भोजन करना, कलात्मक कार्य को करना आदि विशेष रूचि पायी जाती है। कुछ राशियों का जन्म धनवान परिवार में माना जाता हैै और इन राशियों में जिन जातकों का जन्म होता है। वे अपना जीवन बहुत ही सुखदायक और आनन्दमय तरीके से व्यतीत करते हैं। ये राशियां माता लक्ष्मी को अत्यन्त प्रिय है तो आज हम ज्योतिषाचार्य के. एम. सिन्हा जी द्वारा जानेंगे कि वे कौन सी राशियाँ हैं जिनके जातक किसी प्रकार का समझौता नहीं करते हैं और ऐशोआराम के साथ जीवन व्यतीत करते हैं।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातकों का स्वामी शुक्र होता है, जो ऐशोआराम, वैभव, सुख-सुविधाओं का कारक होता है। वृषभ राशि के जातक जीवन में बेहतर वस्तुुओं की प्रशंसा के लिए जाने जाते हैं और उनका पूरा मन विलासिता पूर्ण जीवन व्यतीत करने में लगा रहता है। वृषभ राशि माता लक्ष्मी की प्रिय राशि है। इस राशि पर माता लक्ष्मी की विशेष कृपा बनी रहती है साथ ही ये जातक गुणी होते हैं और मूल्यों को भी भली-भाँति समझते हैं। ऐसे जातक उत्तम गुणवत्ता वाली वस्तु, वस्त्र, गहने आदि का प्रयोग करने की चाह रखते हैं।

इसके अलावा इस राशि के जातकों के लिए आर्थिक स्थिति को संतुलन में बनाये रखना काफी महत्वपूर्ण होता है, जिससे ये विलासिता पूर्ण जीवन व्यतीत कर सकें। अपने जीवन में कठिन परिश्रम करने से भी पीछे नही हटते हैं तथा दृढ़ निश्चयी होते हैं एक बार जिस काम को करने की ठान लेते है उसे पूरा करके ही मानते हैं। इनकी सूझ-बुझ निवेश के मामलों में काफी अच्छी साबित होती है। जिसके परिणामस्वरूप इनको जीवन में उन्नति प्राप्त होती हैं।

इस राशि के जातकों का सम्बन्ध प्रकृति प्रेम से अधिक होता है। जिसका वे भरपूर आनन्द भी लेते हैं। वे ऐसे सम्पत्तियों में निवेश करना पसन्द करते है जिसमे उनको सुख-शांति का अनुभव मिल सके। नये-नये प्रकार के भोजन में भी विशेष रुचि रहती है। वृषभ राशि के जातक अत्यधिक महत्वकांक्षी होते हैं।

मिथुन राशि

मिथुन राशि का स्वामी बुध है जो बुद्धि एवं वाणी का कारक होता है। इस राशि के जातकों को भगवान गणेश जी एवं माता लक्ष्मी जी का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। मिथुन राशि के जातक अपने आकर्षण के लिए प्रसिद्ध होते है और ऐशोआराम से जीवन जीना पसन्द करते हैं इसके साथ ही धन-सम्पत्ति इनके लिए मायने रखती हैं। जीवन मे अपनी मेहनत से सफलता हासिल करते हैं और स्वतंत्र रहना पसन्द करते हैं। इनकी विलासिता केवल इनकी इच्छा पर ही नहीं अपितु वे अपने परिवेश में भी बेहतर करने के प्रयास में लगे रहते हैं।

मिथुन राशि के जातक डिजाइन फर्नीचर कलाकृति और शानदार सजावट का सामान रखने में विशेष रूचि रखते हैं। इस राशि के जातक अपने उन्नति के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने और अपने समान विचारधारा रखने वाले व्यक्तियों के साथ बातचीत करने का अवसर ढूढ़ते रहते हैं। मिथुन राशि के जातक अत्यधिक जिज्ञासावान होते हैं।

सिंह राशि

सिंह राशि का स्वामी सूर्य ग्रह होता है। सूर्य ग्रहों का स्वामी माना जाता है तथा इसे राजा की संज्ञा भी दी जाती है। सिंह राशि के जातक अत्यधिक भाग्यशाली माने जाते हैं। इस राशि के जातक एक राजा की भाँति जीवन जीने की इच्छा रखते हैं तथा दृढ़ संकल्पी होते हैं। जिस वस्तु की कामना करते हैं उसके प्राप्ति के लिए निरन्तर प्रयास में लगे रहते हैं जब तक उन्हें वह वस्तु प्राप्त न हो जाए। रचनात्मक कार्यों में भी अत्यधिक रूचि रहती हैं। ये जातक प्रायः विलासतापूर्ण जीवन जीने की प्रवृत्ति वाले होते हैं। चूंकि सिंह राशि पर सूर्य का शासन होता है जिससे ये अपने शाही स्वभाव और एकाग्र शक्ति के लिए प्रसिद्ध होते हैं।

इसके अलावा सिंह राशि के जातक अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए निरन्तर प्रयास में लगे रहते हैं। ये जातक खर्चीले स्वभाव के भी होते हैं जिसके कारण कभी भी खर्च करने से पीछे नहीं हटते हैं। विलासिता पूर्ण समान अत्यधिक प्रिय होता है। अपने घर को महंगी-महंगी वस्तुओं से सजाते है जिसमे इनकी विशेष रूचि होती हैं सिंह राशि के जातक उन स्थान पर अधिक रहना पसन्द करते हैं जहाँ उनको विशेष मान-सम्मान प्राप्त हो। ये जातक तेजवान एवं देखने में आकर्षित होते हैं। इसके आकर्षण से लोग प्रभावित होते हैं।

तुला राशि

तुला राशि पर भी शुक्र का शासन होता है। तुला राशि माता लक्ष्मी के प्रिय राशियों में से एक है जिसके फलस्वरूप जातक को लक्ष्मी माता का विशेष सुख प्राप्त होता है। माता लक्ष्मी की कृपा से धन दौलत सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होती है। सामाजिक रूप से भी आकर्षक व्यक्तित्व वाले होते हैं तथा किसी भी काम को शांति एवं आसानी से पूर्ण करने की विशेष शक्ति इनमें विराजमान होती है।

ये लोग प्रायः राजा के समान भोग-विलासिता से पूर्ण जीवन जीने की रुचि रखते है। तुला राशि धनवान राशियों में से एक है। ये जातक अपने अपनी पसन्द की वस्तुओं पर धन खर्च करने के लिए बिल्कुल भी नही सोचते हैं। इसके साथ ही इस राशि के जातक अपने वातावरण सहित अपने जीवन के सभी पहलुओं में संतुलन बनाने में सक्षम होते हैं। कपड़े के डिजाइनिंग और सजावट की वस्तुओं को अत्यधिक पसन्द करते है जिसके कारण यह एक अच्छा शिल्पकार भी बन सकते है।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों पर देवगुरु बृहस्पति का शासन होता है जिसके फलस्वरूप ऐसे जातकों की रूचि धार्मिक सामाजिक कार्यों में अधिक रहती है। इस राशि के जातकों के पास कभी भी धन-सम्पति की कमी नहीं होती हैं। ये जातक अपने परिश्रम के दम पर अपने जीवन में सफलता प्राप्त करने में सक्षम होते हैं। माता लक्ष्मी के प्रिय राशियों में से मीन राशि भी एक है। यह राशि भी भाग्यशाली राशि कहलाती हैं।

इसके अलावा इस राशि के जातकों पर माता लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहता है एवं भाग्य का भी सहयोग मिलता है ये जातक जिस काम को करने की सोच लेते हैं उसको पूर्ण करने के पश्चात ही कोई नया कार्य आरम्भ करते हैं। धन-सम्पति के क्षेत्र में इनको विशेष लाभ प्राप्त होता है। इस राशि के जातक अपने कल्पनाशील स्वभाव के लिए प्रसिद्ध होते हैं। ऐसे जातकों को विलासिता पूर्ण जीवन व्यतीत करने की चाह इतनी अधिक रहती है ये इससे कोई भी समझौता नही करते हैं। मीन लग्न एक प्रकार का जल प्रतीक होता है जो बहुत ही संवेदनशील होता है। कला, संगीत एव सौंदर्यशास्त्र में अच्छी समझ होती हैं। इस राशि के जातकों को यात्राओं का शौक अधिक होता है।