कालाष्टमी 2023 | Kalashtami | Chaitra Kalashtami |

हिन्दू धर्म में प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी का व्रत रखा जाता है। चैत्र माह में कालाष्टमी 14 मार्च 2023 दिन मंगलवार को है। इस दिन तंत्र साधना के लिए काल भैरव की पूजा की जाती है तो आइये हम कालाष्टमी के महत्व, उपाय, पूजा-विधि की पूर्ण जानकारी दिल्ली के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य के.एम. सिन्हा जी द्वारा समझते है।

कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को बाबा काल भैरव की पूजा की जाती है। कालाष्टमी के पर्व का भगवान शिव का विग्रह रुप माने जाने वाले काल भैरव की पूजा का विशेष महत्व होता है काल भैरव को  भगवान शिव का 5 वां अवतार कहा जाता है। यह दिन भक्तों द्वारा उनके जीवन से बाधाओं और संघर्षों को दूर करने के लिए मनाया जाता है काल भैरव काल के प्रतीक है। इसलिए वह अपने भक्तों को जीवन के संघर्ष से बचाता है और उन्हें एक अद्भुत जीवन का आशीर्वाद देते है। कालाष्टमी के दिन काल भैरव की स्तुति करने वाला व्यक्ति कभी भी समय के विनाश में नही आता है।

कालाष्टमी की कथाः-

एक कथा के अनुसार एक बार भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा के बीच सत्ता में वर्चस्व के मामलें में विवाद हुआ था जब उनका विवाद इतना बढ़ गया तब भगवान शिव ने समस्या के समाधान के लिए दीक्षांत समारोह बुलाया इस बैठक में बुद्धिमान पुरुषों उपदेशकों और संतों ने भाग लिया अंत में सभा का परिणाम आया और भगवान शिव ने कहा की दोनो उनके शिवलिंग का अंत खोजें। भगवान विष्णु ने अंत नही देखा और अपनी हार स्वीकार कर ली लेकिन भगवान ब्रह्मा क्रोधित हो गये और यह मानने को तैयार ही नही थे की वह अनंत शिवलिंग का अंत नही देख सकते। भगवान ब्रह्मा के झूठ के कारण भगवान शिव ने काल भैरव का अवतार लिया और उन्होंने भगवान ब्रह्मा का पांचवा सिर काट दिया काल भैरव का रुप इतना विनाशकारी है और यह विनाश और प्रलय का चेहरा दिखता है। काल भैरव का वाहन काला कुत्ता है। इसलिए इस कालाष्टमी पर काले कुत्तों का होता है। काल भैरव को दण्ड पति के नाम से भी जाना जाता है वह बुरे मनुष्यों को दण्ड प्रदान करते है।

READ ALSO   Holika Dahan(28 March)

कालाष्टमी के उपायः-

☸कालाष्टमी के शुभ दिन के अवसर पर भगवान भैरव नाथ की प्रतिमा के सामने बैठ कर सरसो के तेल का दीपक जलाएं।
☸विवाहित दाम्पत्य जोड़े में भगवान का पूजन करें।
☸सुबह स्नान करके 21 बिल्व पत्रों पर लाल या पीले चंदन से ओम नमः शिवाय लिखकर निकट स्थित शिव मन्दिर में शिवलिंग पर चढ़ाएं।

कालाष्टमी के महत्वः-

कालाष्टमी की महानता आदित्य पुराण में बताई गई है कलाष्टमी पर पूजे जाने वाले मुख्य देवता भगवान काल भैरव है जिन्हें भगवान शिव का ही अवतार माना जाता है। हिन्दी में ‘काल’ का अर्थ समय है जबकि काल का अर्थ शिव की अभिव्यक्ति है इसलिए काल भैरव को समय का देवता भी कहा जाता है और भगवान शिव के भक्त जनों द्वारा पूरी श्रद्धा के साथ उनकी पूजा की जाती है। यह भी एक लोकप्रिय मान्यता है कि इस दिन भगवान भैरव की पूजा करने से व्यक्ति के जीवन से सभी कष्ट कठिनाइयां और नकारात्मकताएं दूर होती है।

कालाष्टमी की पूजा विधिः-

☸कालाष्टमी भगवान शिव के अनुयायियों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन भक्त सूर्योदय से पहले उठते है और तुरन्त स्नान करते है। वह काल भैरव के दिव्य आशीर्वाद और अपने पापों की क्षमा मांगने के लिए काल भैरव की विशेष पूजा करते है।
☸भक्त शाम को भगवान काल भैरव के मन्दिर भी जाते है और वहां विशेष पूजा-अर्चना करते है ऐसा माना जाता है कि कलाष्टमी पर भगवान शिव का उग्र रुप है इनका जन्म भगवान ब्रह्मा के जलते क्रोध और गुस्से का अंत करने के लिए हुआ था।
☸कालाष्टमी पर सुबह पूजा के दौरान मृत पूर्वजों को विशेष पूजा और अनुष्ठान भी किये जाते है।
☸इस दिन उपवास रखकर भक्त पूरी रात सतर्क रहते है और महाकालेश्वर की कथा का पाठ करना और भगवान शिव को समर्पित मंत्रों का जाप करना शुभ माना जाता है।

READ ALSO   आषाढ़ अमावस्या 2023

काल भैरव मंत्रः-

‘‘ हीं बटुकाय आपदूर्ताय कुरु कुरु बटुकाय हीं’’
हर हं हीं हरिम हंडौण्डय क्षेत्रपालय काले भैखाय नमः

लाभः-

इस दिन उपासको को भगवान काल भैरव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। काल भैरव संघर्षों के निवारण के देवता है जो भक्त भगवान भैरव की पूजा आराधना करते है तथा भगवान भैरव को प्रसन्न करते है। उन्हें सफलता मिलती है उचित शुभ मुहूर्त के साथ काल भैरव की वंदना करने से बुरे प्रभाव दूर होते है यह पूजा एक व्यक्ति को धीरे-धीरे शान्ति की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करती है।