ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें किन परिस्थितियों में सिंदूर गिरना शुभ होता है या अशुभ

शास्त्रों और हिन्दू धर्म के अनुसार बात करें यदि हम सिंदूर कि तो सिंदूर को सभी विवाहित महिलाओं के श्रृंगार का एक हिस्सा माना जाता है जो कि उनके सोलह श्रृंगारों में से एक होता है। सिंदूर को केवल एक श्रृंगार के रुप में ही नही देखा जाता बल्कि यह उनके लिए एक सुहागन होने की निशानी भी माना जाता है जो की इनके पति से जुड़ा हुआ होता है। धार्मिक दृष्टिकोण से जोड़कर देखें तो अधिकतर महिलाएं पति की लम्बी उम्र के लिए भी अपने माँग में प्रतिदिन सिंदूर लगाया करती हैं।

ये तो थी धार्मिक दृष्टिकोण वाली बात परन्तु क्या आपको पता है की सिंदूर से जुड़े हुए कुछ अंधविश्वास भी हैं। विशेष रुप से सिंदूर के गिरने, बिखरने या फैल जाने से जुड़े कई शुभ और अशुभ बातें प्रचलित हैं तो इससे जुड़े हुए तथ्य कब शुभ होते हैं और कब अशुभ आइए इसके बारे में हम ज्योतिषाचार्य के. एम. सिन्हा जी के द्वारा जानते हैं।

विवाह के समय नाक पर सिंदूर गिरना

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें किन परिस्थितियों में सिंदूर गिरना शुभ होता है या अशुभ 1

यदि किसी जातक का विवाह हो रहा हो और विवाह होने के दौरान लगाया जाने वाला सिंदूर यदि किसी कारणवश आपके नाक पर गिर जाए या फिर आपके माथे पर फैल जाए तो ऐसा होना बहुत ही ज्यादा शुभ माना जाता है। इस स्थिति में गिरे हुए नाक पर सिंदूर को पोंछकर हटाना नही चाहिए। यदि आप नाक पर गिरे हुए सिंदूर को पोंछकर हटा देते हैं तो ऐसा करना अशुभ माना जाता है। नाक पर सिंदूर गिरना इस बात का संकेत होता है कि आपको अपने जीवनसाथी से आगे चलकर खूब प्यार मिलने वाला है।

कुंवारी लड़कियों पर किसी कारणवश सिंदूर गिर जाना

यदि किसी कारणवश कुंवारी लड़कियों पर सिंदूर गिर जाए तो ऐसा होना हर परिस्थिति में शुभ माना जाता है। मुख्य रुप से जो लड़किया शादी के लायक हो गयी हैं उन पर सिंदूर गिरना इस बात का संकेत देता है कि उस कन्या का विवाह जल्द ही कुछ समय में होने वाला है। इसके अलावा हिन्दू धर्म के अनुसार यदि विवाह होते समय दुल्हन की छोटी बहन उसका सिंदूर सही करने या सही तरीके से लगाने में किसी प्रकार से मदद कर रही है तो इस स्थिति में भी कुंवारी लड़कियों का जल्द ही विवाह होना माना जाता है।

सिंदूर किसी कारणवश जमीन पर गिर जाए तो

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें किन परिस्थितियों में सिंदूर गिरना शुभ होता है या अशुभ 2

अक्सर ऐसा बहुत बार देखा गया है कि जब भी कभी हम सिंदूर लगाते हैं तो लगाते वक्त थोड़ा सिंदूर कभी-कभी जमीन पर भी गिर जाता है ऐसी स्थिति में सिंदूर नीचे गिर जाने के बाद मन में यह अजीब शंका लगी रहती है कि ऐसा होना शुभ है या अशुभ, इसके अलावा यदि आपके हाथ से सिंदूर दानी छूटकर जमीन पर गिर जाये तो इसे बहुत ही ज्यादा अशुभ माना जाता है।

वहीं यदि जमीन पर रखी हुई सिंदूर की डिब्बी हाथ से गिर जाये और सिंदूर जमीन पर गिरकर फैल जाए तो ऐसा होना शास्त्रों के अनुसार बिल्कुल भी अशुभ नही माना जाता है साथ ही सिंदूर लगाते वक्त सिंदूर जमीन पर गिरना भी कभी अशुभ नही माना जाता है।

पूजा करने के दौरान सिंदूर गिर जाए तो

यदि आप मंदिर में पूजा करने गये हैं और पूजा करते वक्त सिंदूर गिर जाये या अपने आप ही गिरकर जमीन पर फैल जाए तो ऐसा होना इस बात का संकेत होता है कि आपको अपने जीवन में कोई न कोई अशुभ समाचार मिलने वाला है। इसके अलावा पूजा के दौरान सिंदूर का गिरना पति-पत्नी तथा उनके वैवाहिक जीवन में मतभेद की स्थिति भी उत्पन्न कर सकता है। ऐसे में सिंदूर को हमेशा गिरने से बचाने की कोशिश करनी चाहिए।

पैर पर यदि किसी कारणवश सिंदूर गिर जाए तो

जब कभी आप सिंदूर लगाने जा रहे हैं और सिंदूर लगाते वक्त सिंदूर का कुछ अंश पैरों पर गिर जाए तो यह स्थिति आपके लिए नाहि शुभ होती है और नाहि बहुत ज्यादा अशुभ होती है बल्कि पैरों पर सिंदूर गिरना स्त्री जातक को इस बात का संकेत देती है कि आपको अपने जीवनसाथी के साथ लम्बी यात्रा के अवसर प्राप्त हो सकते हैं परन्तु आपकी यह यात्रा कभी शुभ और कभी बहुत ज्यादा अशुभ हो सकती है। इसलिए पैर पर सिंदूर गिरना शुभ है या अशुभ यह कह पाना हमारे लिए उचित नही है।

यात्रा पर जाते समय सिंदूर का गिरना

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें किन परिस्थितियों में सिंदूर गिरना शुभ होता है या अशुभ 3

यदि आप कहीं यात्रा पर जा रहे हैं और घर से निकलते समय ही सिंदूर गिर जाए तो ऐसा होना आपके लिए बहुत अच्छा संकेत नही होता है। इस तरह से सिंदूर का गिरना आपको यह संकेत देता है कि आपकी यात्रा बहुत अच्छी नही होने वाली है। ऐसी स्थिति में जातक को उस दिन यात्रा पर नही जाना चाहिए अपनी यात्रा को टाल देना ही उचित माना जाता है।

सिंदूर गिर जाने के बाद क्या करें

यदि किसी कारणवश आपके हाथों से सिंदूर गिर जाए तो मन में आए हुए बुरे विचारों से बचने के लिए गिरे हुए सिंदूर पर पैर न लगाएं बल्कि वहाँ से सिंदूर अच्छी तरह से साफ करके किसी पीपल के पेड़ के नीचे डालकर आ जाएं उसके बाद घर आकर भगवान के सामने दीपक जलाएं ऐसा करने से सिंदूर गिरने के कारण हुए अपशगुन अपने आप ही दूर हो जायेंगे।

सिंदूर लगाते वक्त इन दिये गये बातों का रखें ध्यान

☸ जब कभी भी आप सिंदूर लगाने जाएं तो उसके लगाने के शुभ और अशुभ तथ्यों को अवश्य जान लें अन्यथा यह आपके लिए बुरा संकेत हो सकता है।

☸ सिंदूर लगाने के लिए कभी भी शाम के समय अपनी मांग न भरें, मांग भरने का सही समय सुबह का वक्त ही होता है। ऐसे में सिंदूर लगाने का सही समय और सही दिशा वास्तु के अनुसार उचित होता है।

☸ सुहागिन महिलाओं को अपने माथे पर तिलक लगाते समय ही अपने मांग में सिंदूर भरना चाहिए। इसके अलावा सुहागिन महिलाओं को हमेशा अपने ही सिंदूर से अपनी मांग भरना चाहिए किसी और के सिंदूर से अपी मांग भरना अशुभ माना जाता है। साथ ही अपना सिंदूर दूसरे लोगों के साथ कभी शेयर नही करना चाहिए ऐसा करना हमेशा अशुभता का संकेत होता है।

☸ यदि जमीन पर सिंदूर गिर गया है तो गिरे हुए सिंदूर को कभी अपनी मांग में नही भरना चाहिए उस गिरे हुए सिंदूर को कहीं बरगद के पेड़ के पास रख देना चाहिए गिरे हुए सिंदूर को मांग में भरना अशुभ माना जाता है।

☸ सिंदूर सुहागिन महिलाओं को हमेशा शुद्ध होकर सही तरीके से लगाना चाहिए इसके अलावा सिंदूर हमेशा सीधे हाथ से लगाना चाहिए इसे अपनी माँग के एकदम बीचों-बीच भरना चाहिए। नहाने के बाद सिंदूर को मांग में भरना शुभ माना जाता है।

सिंदूर लगाना कब शुभ होता है और कब अशुभ

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें किन परिस्थितियों में सिंदूर गिरना शुभ होता है या अशुभ 4

शुभ

☸ मान्यता के अनुसार पार्वती माता भगवान शिव जी के लिए सिंदूर लगाती थीं इसलिए पूजा-पाठ के दौरान माँ पार्वती को सिंदूर भी चढ़ाया जाता है। इसलिए सभी सुहागिन महिलाओं को पूजा-पाठ के दौरान ही मांग में सिंदूर अवश्य लगाना चाहिए।

☸ पूजा-पाठ और व्रत त्योहार के दौरान पति की लम्बी उम्र के लिए करवा चौथ, तीज तथा वट सावित्री के दौरान सुहागिन महिलाओं को सिंदूर अवश्य लगाना चाहिए। इस दिन सिंदूर लगाने से पति की लम्बी उम्र में और ज्यादा वृद्धि होती है।

☸ हिन्दू धर्म के अनुसार सभी सुहागिन महिलाओं को रविवार, सोमवार और शुक्रवार के दिन बाल धोकर माँ गौरी को सिंदूर चढ़ाने के बाद ही सिंदूर स्वयं को अवश्य लगाना चाहिए माँ को चढ़ाया हुआ सिंदूर लगाने से महिलाओं को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

अशुभ

☸ शास्त्रों के अनुसार कुछ दिन ऐसे होते है जब सुहागिन महिलाओं को सिंदूर लगाना अशुभ माना जाता है मान्यता के अनुसार मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है और इस दिन हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने की परम्परा भी होती है। हनुमान जी के ब्रह्मचारी होेने के कारण ही इस दिन सुहागिन महिलाओं को सिंदूर नही लगाना चाहिए।

☸ हिन्दू धर्म कि मान्यता के अनुसार जब कोई सुहागिन महिला मासिक धर्म की समस्या से गुजर रही हो तो इस दौरान महिलाओं को सिंदूर नही लगाना चाहिए। शास्त्रों में सिंदूर को बेहद ही शुभ माना जाता है। वहीं मासिक धर्म के दौरान महिलाएं अशुद्ध हो जाती है इसलिए इस दौरान सुहागिन महिलाओं का सिंदूर लगाना अशुभ माना जाता है।