नवरात्रि में जौ से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

मान्यता के अनुसार नवरात्रि में माता की आराधना के क्रम में हम सब कलश की स्थापना करतें है स्थापना के समय हम ज्वार का प्रयोग करते है ।
पूजा स्थल पर ज्वारे इसलिए बोये जाते हैं, क्योंकि हिन्दू धर्म ग्रंथों में सृष्टि की शुरूआत के बाद पहली फसल देवी-देवताओं की पूजा की जाती है ।
‘‘जौ को ब्रह्मा जी का स्वरूप माना जाता है ।’’
माना जाता है कि आदिकाल से पूजा-पाठ में हवन के दौरान जौ को आहुति देने की परंपरा चली आ रही है । पूजा-पाठ में इसका सम्मान करने का अर्थ है कि हमें अन्न पानी कि जो ब्रह्मा स्वरूप है उसका सम्मान करना चाहिए । पूजा में जौ का प्रयोग ही इसकी महत्त को स्पष्ट करता है ।
कैसे बोए जाते है जवारे:
जिस स्थान पर आप जौ बोने जा रहे है उसे पहले साफ करें और वहां चावल डालें इसके बाद आप मिट्टी का एक पात्रा रखें ।
पात्रा को पानी से साफ कर लें । इसके बाद पात्रा से साफ बालू डाले इसके बाद आप बालू मै में जौ के दानें डालें । उसके बाद इसी पात्रा में कलश स्थापना करें अब नौ दिन जौ वाले पात्रा में नियमित जल अर्पित करें ।

🍁 दुर्गा माता की प्रतिमा या फोटो के सामने कलश की स्थापना करें उसी कलश में जौ को लगाएं कलश के नीचे बालु या मिट्टी आवश्य रखें।
🍁 जौ के पात्र में आपको रोज जल अर्पित करना चाहिए।
🍁 जब जौ अंकुरित होने लगे तो उसे मौली की मदद से फैली हुई घास को बांध दें।
🍁 नवरात्रि के अवसर पर होने बोने वाली जौ की ग्रोथ को सुख-समृद्धि का सूचक माना जाता है।
🍁 नवरात्रि पूजा का प्रमुख अंग जौ को माना जाता है।
🍁 अंकुरित जौ का रंग अगर नीचे से आधा पीला और ऊपर से आधा हरा है, तो साल का आधा समय अच्छा बीतेगा और आधा समय खराब रहेगा।
🍁 यदि जौ का रंग नीचे से हरा और ऊपर से पीला है, तो साल का शूरूआती समय ठीक होगा और आखिरी का समय परेशानियों से भरा हो सकता है।
🍁 यदि जौ सफेद या हरे रंग की उगती है। तो यह शुभ संकेत है।
🍁 अंकुरित होने के बाद जौ की घास अगर झड़ रही है या टूट रही है तो यह अशुभ संकेत है।

यदि आप को यह जानकारी पंसद आई तो इसमें लाइक और शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *