नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय

नवरात्रि के नौवें अर्थात अंतिम दिन भक्तजन माता सिद्धिदात्री की आराधना करते हैं। माँ सिद्धिदात्री को चंपा या गुड़हल के पुष्प अत्यंत प्रिय हैं, इसलिए आज के दिन भक्तों को इन पुष्पों से माता पूजन का करना चाहिए। सिद्धिदात्री शब्द का अर्थ है सभी प्रकार की सिद्धि और मोक्ष देने वाली। इस स्वरूप में, माता सिद्धिदात्री लक्ष्मी माता की भाँति कमल के आसन पर विराजमान हैं और उनकी चार भुजाएं हैं जिनमें वह शंख, गदा, कमल, और चक्र धारण करती हैं।

पुराणों में यह कहा गया है कि भगवान शिव ने कठिन तपस्या के बाद आठ सिद्धियों को प्राप्त किया था, और सिद्धिदात्री माता के आशीर्वाद से ही शिवजी अर्धनारीश्वर कहलायें। इस दिन की पूजा से नवरात्रि समाप्त होता है। स्वयं देवी-देवता, किन्नर, यक्ष, दानव, ऋषि-मुनि और गृहस्थ आश्रम में जीवन यापन करने वाले लोग माता सिद्धिदात्री की पूजा करते हैं।

मां दुर्गा को क्यों प्रिय है लाल गुड़हल का फूल?

दुर्गा सप्तशती में मां दुर्गा के स्वरूप का वर्णन करते हुए, लाल गुड़हल के फूल का भी उल्लेख किया गया है। इस आधार पर मान्यता प्राप्त है कि लाल गुड़हल का फूल मातारानी को प्रिय है। लाल रंग सौभाग्य, शक्ति, साहस, और पराक्रम का प्रतीक माना जाता है। मां दुर्गा को आदिशक्ति के रूप में पूजा जाता है और उनके लिए लाल रंग की वस्तुएं अर्पित की जाती हैं, जैसे कि लाल रंग की चुनरी, साड़ी, और फूल।

 

मेष राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 3

आज के दिन आप माता को लाल पुष्प अर्पित करें तथा नैवेद्य में गुड़,लाल रंग की मिठाई अवश्य शामिल करें।

READ ALSO   साप्ताहिक राशिफल | Weekly Horoscope Saaptahik Rashifal | 27 मार्च 2023 से 02 अप्रैल 2023 तक

वृषभ राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 4

आप माता रानी को सफेद पुष्प अर्पित करें तथा स्फटिक की माला से दुर्गा मंत्र का जाप करें।

मिथुन राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 5

नवरात्रि के नौवे दिन तुलसी की माला से गायत्री मंत्र या दुर्गा मंत्र का जाप करें साथ ही खीर का भोग लगाएं।

कर्क राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 6

आज आप माता को अक्षत चढ़ाएं तथा खीर का भोग लगाएं।

सिंह राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 7

सिंह राशि के जातकों को माता की पूजा में सुगंधित फूलों का प्रयोग करना चाहिए।

कन्या राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 8

आज के दिन आप तुलसी की माला से गायत्री मंत्र एवं दुर्गा मंत्र का जाप करें तथा खीर का भोग लगाएँ।

तुला राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 9

आज आप माता को सफेद पुष्प अर्पित करें तथा स्फटिक की माला से दुर्गा मंत्र का जाप जरूर करें एवं सफेद चंदन का तिलक लगाएं।

Read Also- नवरात्रि के सातवें दिन करें ये खास उपाय 2023

वृश्चिक राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 10

आज के दिन लाल चंदन की माला से महागौरी मंत्र का जाप करें।

धनु राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 11  

आज आप पीले रंग की फूलो से देवी माँ की आराधना करें साथ ही हल्दी की माला माता को अर्पित करें।

मकर राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 12

मकर राशि के जातकों को आसमानी रंग के आसन पर बैठकर देवी मां को लाल पुष्प अर्पित करना चाहिए तथा नीलमणि की माला से माता के मंत्रों का जाप करें।

कुंभ राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 13

आज के दिन आप माता को नीले पुष्प अर्पित करें तथा नीलमणि की माला से मंत्रों का जाप करें।

मीन राशि

नवरात्रि के नौवें दिन करें राशि अनुसार ये उपाय 14

मीन राशि के जातकों को पीले रंग के पुष्प अर्पित करना चाहिए तथा हल्दी की माला भी माता को अर्पित करें।

READ ALSO   09th JUNE 2022 DAILY HOROSCOPE BY ASTROLOGER KM SINHA

महानवमी के दिन करें अचूक उपाय, जाग उठेगी आपकी सोई किस्मत

यदि आप महानवमी के दिन दुर्गा सप्तशती के 12 वें अध्याय का 21 पाठ स्पष्ट उच्चारण करें तथा लगातार माता का ध्यान करते रहें तो नौकरी व्यापार में आने वाली सभी परेशानियां दूर होंगी।

यदि आप महानवमी के दिन आम की संविद से हवन करते हैं और उसमें गाय के शुद्ध घी में कमलगट्टे डुबोकर दुर्गा सप्तशती का पाठ करते हुए आहुति देते है तो आपको कर्ज मुक्ति की समस्या से छुटकारा मिलता है।

अष्टमी तिथि पर कैसे करें कन्या पूजन

नवरात्रि के नौ दिनों में महाष्टमी एवं महानवमी बहुत महत्वपूर्ण होती है तथा अष्टमी को कन्यापूजन करने की परम्परा है इसलिए अष्टमी तिथि के दिन माता की पूजा के पश्चात नौ कन्याओं का पूजन करते हैंए उन सभी कन्याओं को माता का ही स्वरुप मानते हैं। सबसे पहले उनके पैर धोकर आशीर्वाद प्राप्त करें तथा हलवाए पूड़ीए काले चने आदि का भोग लगाएं साथ ही सभी कन्याओं को लाल चुनरी अर्पित करें।