ब्रह्म और इंद्र योग में मनाई जाएगी पद्मिनी एकादशी, जानें मुहूर्त, पूजन विधि और उपाय

पद्मिनी एकादशी पर शुभ योग

इस विशेष दिन पर, ब्रह्म और इंद्र योग एक साथ रहेंगे, जो आपके लिए अत्यंत शुभ होगा। यह विशेष समय है, जो आपके धार्मिक अभ्यास, पूजा-अर्चना और तप के फलों को अधिक समृद्धि और सफलता के साथ विकसित कर सकता है। इस समय में आपके संबंधों में सुख-शांति बनी रहेगी और सभी प्रकार के संकट टल जाएंगे।

पद्मिनी एकादशी पर संतान प्राप्ति का उपाय 

संतान प्राप्ति के लिए अपनाएं ये अचूक उपाय घर में गूजेंगी किलकारियां

पद्मिनी एकादशी के अवसर पर संतान प्राप्ति के लिए पति-पत्नी एकसाथ भगवान कृष्ण की पूजा करें। भगवान को पीले पुष्प और पीला फल अर्पित करें। इसके बाद, “ॐ क्लीं कृष्णाय नमः” का जाप यथाशक्ति से करें। फिर, भगवान से संतान प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें। पूजन के बाद अर्पित किया हुआ फल पति-पत्नी के लिए प्रसाद के रूप में ग्रहण करें।

पद्मिनी एकादशी

भगवान विष्णु के चरणों के पास क्यों रहती हैं लक्ष्मी जी, जानिए | Jansatta

एकादशी पर भगवान श्री विष्णु का पूजन का विधान होता है लेकिन पूजा तभी पूर्ण मानी जाती है। जब पद्मिनी एकादशी की कथा भी सुनी जाएं अधिकम मास को पुरुषोत्तम मास कहा जाता है क्योंकि ये भगवान विष्णु को समर्पित होता है। यह एकादशी पुण्यफल देने वाली होती है। भक्त भगवान विष्णु का आशीर्वाद पाने के लिए निर्जला व्रत रखते हैं और कुछ भक्त फलाहार करते हुए उपवास करते हैं। पद्मिनी एकादशी सभी व्रतों में श्रेष्ठ मानी जाती है। इस दिन माता लक्ष्मी की भी पूजा की जाती है। घर के चारो तरफ साफ-सफाई कर के विधि-विधान से सर्वप्रथम भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए। तत्पश्चात माता लक्ष्मी और भगवान श्री नारायण की विधिवत रुप से पूजन करें। पद्मिनी एकादशी का उपवास रखने के साथ-साथ कथा पढ़नी चाहिए या सुननी चाहिए।

READ ALSO   धनु संक्रान्ति
पद्मिनी एकादशी कथा

त्रेतायुग में हैहृय वंशक महिष्मती पूरी के राजा कृतवीर्य थे और उनकी एक हजार पत्नियाँ थी लेकिन इसके बाद भी उनकी कोई संतान नही थी राजा को इस बात की चिंता थी कि उनके बाद महिष्मती पूरी का शासन कौन संभालेगा हर प्रकार की उपायों के बाद भी संतान सुख से वंचित थे तब राजा कृतवीर्य ने तपस्या करने की ठान ली और उनके साथ तप पर उनकी पत्नी पद्मिनी भी साथ चलने को तैयार हो गयें, तब राजा ने अपना पद्भार मंत्री को सौप दिया और योगी का वेश धारण कर पत्नी पद्मिनी के साथ गंधमान पर्वत पर तप करने निकल पड़े। तप करते हुए महारानी पद्मिनी और राजा कृतवीर्य को 10 साल बीत गये लेकिन फिर भी उन्हें संतान की प्राप्ति नही हुई इसी बीच अनुसूईया ने महारानी पद्मिनी को पुरुषोत्तम मास में पड़ने वाली एकादशी के बारे में बताया उन्होंने कहा कि अधिकमास अथवा पुरुषोत्तम मास 36 मास के बाद आता है और सभी मासों में महत्वपूर्ण माना जाता है। उसमें शुक्ल पक्ष की एकादशी के व्रत को रखने से तुम्हारी मनोकामना पूर्ण हो जाएगी तथा भगवान विष्णु तुम्हें संतान सुख देंगे। इसके बाद पद्मिनी व्रत ने पुरुषोत्तम मास की एकादशी का व्रत विधि विधान से किया और जो फल उन्हें हजारो साल के तप से नही मिला वह एकादशी व्रत को करने से मिल गया। भगवान विष्णु ने प्रसन्न होकर संतान की प्राप्ति का आशीर्वाद प्रदान किया। उस आशीर्वाद के कारण पद्मिनी के घर एक बालक का जन्म हुआ जिसका नाम कातीवीर्य रखा गया और एकादशी का नाम पद्मिनी एकादशी पड़ गया। माना जाता है कि कातीवीर्य जितना बलशाली और ताकतवर पूरे संसार में कोई न था।

READ ALSO   दीपक जलाते समय निम्न मंत्र का जप करना चाहिए
पद्मिनी एकादशी महत्व

पद्मिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है तथा भगवान विष्णु के साथ भगवान सूर्य देव का भी विशेष पूजन अर्चन किया जाता है।  अधिक मास में इस एकादशी व्रत का महत्व स्वयं भगवान कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया था। भगवान विष्णु और सूर्य देव की पूजा एक साथ करने में कई परेशानियों का अंत होता है। इस दिन सच्चे मन से तथा स्वच्छ हृदय से भगवान का ध्यान करें तथा व्रत का संकल्प लें। पद्मिनी एकादशी को कमला एकादशी भी कहा जाता है तथा इस एकादशी को सभी व्रतों में श्रेष्ठ माना जाता है।

पद्मिनी एकादशी पूजा विधि

☸ प्रातः स्नान करकें भगवान विष्णु की विधि पूर्वक पूजा करें।
☸ निर्मल व्रत रखकर पुराण श्रवण तथा पाठ कीजिए।
☸ रात में भजन कीर्तन तथा जागरण कीजिए।
☸ रात्रि में प्रति पहर भगवान शिव और भगवान विष्णु की आराधना करें।
☸ प्रत्येक पहर में भगवान को अलग-अलग भेंट प्रस्तुत करें जैसे प्रथम प्रहर में नारियल दूसरे प्रहर में बेल तीसरे प्रहर में सीताफल चौथे पहर में नारंगी और सुपारी आदि से पूजन कीजिए।
☸ द्वादशी के दिन सुबह भगवान की आराधना कीजिए फिर ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करें। इसके पश्चात स्वयं को भोजन करें।

पद्मिनी एकादशी शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि शुरुः- 28 जुलाई 2023 दोपहर 02ः51 बजे से
एकादशी तिथि समाप्तः- 29 जुलाई 2023 दोपहर 01ः05 बजे तक