पेरिडाॅट रत्न

पेरिडाॅट एक बेहद ही खूबसूरत रत्न है। जिसका इस्तेमाल पन्ने के स्थान पर किया जाता है। इसे बुध ग्रह के लिए पहना जाता है। यह दिखने मे हरे रंग का होता है। पेरिडाॅट को मनी स्टोन के नाम से भी जाना जाता है। इस रत्न मे पैसे को खीचनें की अद्भुत शक्तियाँ होती है, इसलिए इसका नाम मनी स्टोन पड गया है। इसे बुध ग्रह के लिए पहना जाता है और बुध बुद्धि और विवेक का कारक होता है। ऐसे लोग जिनके अन्दर सब्र की कमी होती है, उन्हें यह रत्न अवश्य पहनना चाहिए। यह रत्न उनके अन्दर धैर्य को जगाता है। पेरिडाॅट उन लोगो के लिए होता है जो आर्थिक रुप से कमजोर होने की वजह से पन्ना नही खरीद सकते है। यह रत्न सामान्यतः भारत मे मिल जाता है।

पेरिडाट स्टोन किस ग्रह का रत्न है

पेरिडाॅट का सम्बन्ध पूर्णत बुध ग्रह से है। इस रत्न को पहनने से जातक की बुद्धि तेज होती है और साथ ही व्यापार मे तरक्की देखने को मिलती है। इस रत्न को पहनने से जातक को बुध देव की कृपा मिलती है और उन्हें खुश करने के लिए आप इसे पहन सकते है। ज्योतिष मे बुध को बहन, व्यापार, बुद्धि और विवेक का कारक माना जाता है तो यदि आप इन क्षेत्रो से सम्बन्धित कार्य करते है तो भी इस रत्न को पहना जा सकता है।

पेरिडाॅट स्टोन किसका उपरत्न है

पेरिडाॅट स्टोन पन्ने का उपरत्न है और इसे पन्ने के स्थान पर उपयोग किया जाता है। ऐसा बहुत बार होता है कि जातक आर्थिक परेशानियों के चलते पन्ना नही खरीद सकता तो वह पेरिडाॅट को धारण कर सकता है। पन्ना सबसे महंगे रत्नो मे से एक है इसलिए भी लोग सीधे पन्ना पहनने के बजाए पहले उपरत्न पहन कर देखते है और जब उन्हें शुभ परिणाम नजर आते है तो वह पन्ना पहन सकते है।

पेरिडाॅट रत्न के फायदे

1. चूँकि पेरिडाॅट बुध ग्रह से सम्बन्ध रखता है इसलिए इसे पहनने से मन शांत रहता है और साथ ही साथ एकाग्र शक्ति भी बढ़ती है। जातक अपने लक्ष्य पर अच्छे तरीके से ध्यान दे पाता है।
2. पेरिडाॅट पहनने से जातक का औरा बेहद ही शक्तिशाली हो जाता है। दूसरे लोग इनसे प्रभावी होते है और इनका सम्मान करते है, जिससे जातक का मान-सम्मान समाज मे बढ़ता है।
3. पेरिडाॅट मे इतनी शक्ति होती है, जिससे जातक का व्यक्तित्व बेहद ही आकर्षक हो जाता है। ऐसे जातक महफिल मे चार चाँद लगाने की काबिलियत रखते है।
4. पेरिडाॅट को पहनने से बंद भाग्य के रास्ते खुलते है और जातक को भाग्य का सहयोग मिलने लगता है।
5. इस रत्न को पहनने से जातक के अन्दर वार्तालाप की कला आ जाती है और वह अपने शब्दो को अच्छे तरीके से इस्तेमाल करने लगता है।
6. यह रत्न उन जातकों के लिए भी अच्छा है जो व्यापार करते है। इसे पहनने से उन्हे अपने व्यापार में तरक्की देखने को मिलती है।
7. पेरिडाॅट पहनने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

असली पेरिडाॅट स्टोन की पहचान

☸ पेरिडाॅट बिल्कुल पारदर्शी, साफ और चिकना होता है जबकि नकली पेरिडाॅट बिल्कुल भी पारदर्शी नही होता है।
☸ पेरिडाॅट एक ऐसा रत्न है जिसमें किसी तरह का बबल, क्रेक या स्क्रैच नही होता है।
☸ किसी भी रत्न की जाँच के लिए रिफ्रेक्टिव इंडेक्स, हार्डनेस लस्टर चेल्सिया आदि की सहायता से यह पता लगाया जाता है कि रत्न असली है या नकली।
☸ यह सब वैज्ञानिक प्रक्रिया है और आम इन्सान इन तकनीकी बातो को नही समझ सकता है। इसलिए सबसे बेहतर तरीका होता है प्रमाण पत्र जिसमे यह सभी चीजें अच्छे से लिखित होती है।

पेरिडाॅट रत्न पहनने की विधि

☸ पेरिडाॅट रत्न बुध ग्रह का रत्न है और बुध देव का दिन होता है बुधवार तो हमे इसे बुधवार के दिन ही पहनना चाहिए।
☸ प्रातः स्नान कर लें और उसके बाद इस रत्न को हाथ को लेकर श्¬ बुं बुधाए नमःश् का 108 बार जाप करें।
☸ इसके बाद इसे गंगाजल से अच्छे तरीके से धोकर अनामिका या कनिष्ठिका अंगुली मे धारण करें।
☸ पेरिडाॅट को चाँदी मे पहनना चाहिए और यह कम से कम 5 कैरेट का होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *