बलराम जयंती 2023

भारतीय धर्म और पुराणों के अनुसार, भगवान बलराम विष्णु भगवान के नौवें अवतार माने जाते हैं। भगवान कृष्ण के बड़े भाई भी थे। उनके पास बहुत शक्ति थी, और उन्होंने विशालकाय राक्षस धेनुका का वध किया। उन्हें हिंदू धर्मग्रंथों में आदि शेष भगवान के अवतार के रूप में भी जाना जाता है, जिस पर भगवान विष्णु सोते हैं। उन्हें भगवान वासुदेव और देवकी की सातवीं संतान माना जाता है, जिन्होंने कई राक्षसों का वध किया। भगवान बलराम की पूजा करने और उनकी जयंती को मनाने वाले लोगों को अच्छे स्वास्थ्य और शक्ति का आशीर्वाद मिलता है। उनकी भक्ति करने वाले लोगों को शारीरिक बल मिलता है।

क्यूं है भगवान बलराम विशिष्ट सम्मान के पात्र

भगवान बलराम के विशिष्ट सम्मान के पात्र होने के पीछे कई कारण हैं। उनकी जयंती को हर साल मनाया जाता है क्योंकि उन्होंने दानवी राक्षस धेनुकासुर को मार गिराया और लोगों का जीवन सुखी बनाया। उन्होंने प्रलम्बासुर जैसे असुर को भी समाप्त किया और धरती पर शांति स्थापित की। भगवान कृपा के साथ उनका गहरा प्रेम देखकर लोग उन्हें बहुत सम्मान करते थें। बलराम जी ने यमुना देवी के पीछे जाकर उन्हें बचाया, जिससे उन्हें और भी बड़ा आदर मिलता है। उन्होंने रेवती से भी विवाह किया, जिससे उन्हें एक और उपास्य पद प्राप्त हुआ।

इन सभी कारणों से भगवान बलराम को विशेष सम्मान किया जाता है और उन्हें हम सब भी श्रद्धा भाव से पूजते हैं।

कहां मनाया जाती है बलराम की जयंती

भगवान बलराम की जयंती को भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न नामों से मनाया जाता है। वे नागों के अवतार माने जाते हैं और उन्हें बलदेव, बलभद्र, और हलायुध जैसे नामों से भी जाना जाता है। उत्तर भारत में इस दिन को हल षष्ठी और ललही छठ के रूप में धूमधाम से मनाया जाता है। ब्रज क्षेत्र में इसे बलदेव छठ के नाम से मनाया जाता है और गुजरात में इसे रंधन छठ के रूप में खास हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

READ ALSO   नवरात्रि के अवसर पर माँ दुर्गा चालीसा का हिन्दी अनुवाद

भगवान बलराम जयंती के अवसर पर गंजम, पंजाब और पुरी में कई प्रसिद्ध मंदिर होते हैं। इनमें से कुछ मंदिर हैं अनंत वासुदेव मंदिर, बालादेव मंदिर और बलियाना मंदिर जैसे, जहां भक्तजन भगवान बलराम की पूजा करते हैं और उनके जन्मोत्सव को बड़े धूमधाम से मनाते हैं।

क्यूं आवश्यक है भगवान बलराम की भक्ति

भगवान बलराम की भक्ति करना बहुत महत्वपूर्ण है। उनकी अद्भुत सुंदरता से हर किसी को प्रभावित किया जा सकता है। उनके नीले वस्त्र और वन फूलों की माला उनकी भव्यता को और भी बढ़ाते हैं। उनके सुंदर बाल और चोटी उनकी खूबसूरती को और भी निखारते हैं। उनके कानों की झुमकी उनकी रौनक को बढ़ाती है। उनके चेहरे पर लगा हुआ कस्तूरी तिलक उनकी भव्यता को और भी बढ़ाता है।

भगवान बलराम भगवान श्री कृष्ण के प्रिय भाई हैं और उनके आशीर्वाद के बिना भगवान श्री कृष्ण की कृपा प्राप्त करना मुश्किल होता है। वे आध्यात्मिक गुरु हैं और उनकी दया प्राप्त करने से व्यक्ति भगवान श्री कृष्ण के प्रेम और आशीर्वाद को प्राप्त कर सकता है। उनका समर्थन लक्ष्मण के रूप में भगवान राम के साथ हुआ था, जिससे उन्हें भगवान श्री कृष्ण से भी अधिक भव्यता मिली इसलिए, भगवान बलराम की भक्ति करना हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है।

बलराम जयंती व्रत के अनुष्ठान

☸ पूर्व संध्या पर, भक्त सुबह जल्दी उठकर स्नान करते हैं और पूजा की तैयारी शुरू करते हैं।

☸ पूजा शुरू होने से पहले मंदिर को फूलों और पत्तियों से सजाया जाता है। भगवान कृष्ण और भगवान बलराम की मूर्तियों को नए कपड़ों में सजाया जाता है।

READ ALSO   सावन के आखिरी प्रदोष व्रत पर बन रहा खास योग, शिव पूजा से मिलेगा दोगुना लाभ, Sawan Pradosh Vrat 2023

☸ यह उत्सव उन सभी मंदिरों में होता है जहाँ भगवान बलराम और भगवान कृष्ण की पूजा होती है।

☸ इस दिन व्रत रखने वाले भक्तों को दोपहर तक भोजन नहीं करना होता है।

☸ संतों और भक्तों द्वारा पंचामृत से भगवान बलराम और भगवान कृष्ण की मूर्तियों को पवित्र स्नान कराया जाता है।

☸ भक्त विशेष भोजन और भोग तैयार करते हैं जो देवताओं को चढ़ाया जाता है और फिर इसे प्रसाद के रूप में परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के बीच वितरित किया जाता है।

☸ इस दिन को नाचते-गाते, भजन और लोकगीत गाकर भक्तों को आनंद मिलता है।

बलराम जयंती का क्या महत्व है

बलराम जयंती भारत के विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग रीति-रिवाज और परंपराओं के साथ मनाई जाती है। यह त्योहार भगवान बलराम की जयंती के रूप में मनाया जाता है, जो कृष्ण भगवान के बड़े भाई हैं। कुछ स्थानों में यह अक्षय तृतीया के दिन मनाया जाता है, जबकि अन्य क्षेत्रों में यह श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। कुछ श्रद्धालु तो वैशाख महीने में भी बलराम जयंती का त्योहार मनाते हैं, जो अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार अप्रैल या मई महीने में आता है।

बलराम जयंती शुभ मुहूर्त

षष्ठी तिथि प्रारम्भ:- सितम्बर 04, 2023 को सायं 04ः41 बजे
षष्ठी तिथि समाप्त:- सितम्बर 05, 2023 को सायं 03ः46 बजे

भक्तों को इस दिन के शुभ समय में बलराम जयंती पूजा करनी चाहिए। शुभ मुहूर्त पर हुई पूजा से भक्तों को अधिकतम लाभ मिलता है।

बलराम जयंती पूरे भारत में बहुत प्रसिद्ध है। वे भगवान कृष्ण के बड़े भाई हैं और दोनों के बीच में काफी स्नेह और प्रेम है। इससे हमें भी अपने भाई-बहनों के साथ प्रेम और स्नेह की महत्वपूर्ण शिक्षा मिलती है।

READ ALSO   कौन से लग्न वालें जातक निरडर जीवन जीना पसंद करते है?