बालों के झड़ने का कारण कहीं कुण्डली दोष तो नहीं, आपके बाल खोलेंगे किस्मत के कई राज

बालों का झड़ना किसी को पसन्द नहीं है परन्तु आजकल यह समस्या सामान्य हो गई है। आये दिन झड़ते बालों की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं यह परेशानी महिला एवं पुरुष दोनों मे होती हैं परन्तु पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं के बाल अधिक लम्बे होते हैं जिसके कारण उनके बाल अधिक झड़ते हैं। इसके बावजूद महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में गंजेपन अधिक देखने को मिलते हैं। इसका कारण आपके कुण्डली में बैठे ग्रह भी हो सकते हैं तो आइये जानते है क्यों झड़ते हैं बाल तथा बालों में छिपा रहस्य एवं उसका उपाय

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु को बाल का कारक माना जाता है। यदि आपकी कुण्डली में राहु कमजोर अथवा अशुभ अवस्था में हो तो ऐसे में बालों की परेशानी अधिक रहती है और यह समस्या तब तक समाप्त नही होती हैं जब तक राहु की दशा ठीक न हो जाए। जब किसी जातक की कुण्डली में राहु, धनु या वृश्चिक राशि में विराजमान हो तो जातक को बालों से सम्बन्धित कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। धनु अथवा वृश्चिक राशि में राहु को नीच माना जाता है जिसके कारण इस राशि में इसका प्रभाव अधिक रहता है।

बालों के झड़ने के कुछ मुख्य कारण

☸यदि किसी जातक की कुण्डली में बुध नीच का हो या छठे अथवा आठवें भाव में विराजमान हो तो बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है।
☸ सूर्य नीच राशि का होकर बालों की समस्या उत्पन्न करता है।
☸ यदि कुण्डली में राहु एवं सूर्य की युति हो तो बाल झड़ने लगते हैं।
☸नीच का सूर्य बालों को झड़ाने में सहायक होता है।
☸ जब कभी शनि नीच का हो एवं राहु तथा सूर्य एक दूसरे से दृष्ट हों तो बालों की समस्या होती है।

READ ALSO   वैशाख अमावस्या 2023 | Vaisakh Amavasya |

उपाय

☸इस समस्या से राहत पाने के लिए शनिवार के दिन साबुत और उड़द दाल का दान करें।
☸ इससे समस्या से मुक्ति पाने के लिए ओम राम राहवे नमः नमः मंत्र का जाप करें।
☸ शनिवार के दिन पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दीपक जलाएं।
☸ प्रतिदिन पक्षियों को दाना डालें इससे सूर्य मजबूत होगा एवं बालों की समस्या दूर होगी।

आपके बालों में छिपा हैं कई रहस्य

वैदिक ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है कि जिन जातकों के सिर में एक जड़ से एक बाल निकला होता हैं वो बहुत शुभ होता है। ऐसे जातक अधिक भाग्यशाली होते हैं। आपके बाल आपके बारे में बहुत कुछ बताते है। इसके अलावा जिन जातकों के बाल में से कई बाल निकले होते हैं वे जातक दो विचारधाराओं में उलझे रहते हैं जिसके कारण किसी निर्णय पर नही पहुंच पाते हैं और सफलता का अवसर खो देते हैं।

☸यदि आपके बाल पतले हैं तो यह सबसे शुभ माना जाता है जिन जातकों में ऐसे बाल होते है वे दयावान, सम्पत्तिवान तथा भाग्यवान होते हैं।
☸ जिन जातकों का बाल मोटा होता हैं उनको दूसरों से बचकर रहना चाहिए क्योंकि आपके मित्र आपसे विश्वासघात कर सकते हैं परन्तु स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बालों का मोटा होना शुभ होता है।
☸ ऐसा माना जाता है कि आपकी कुण्डली में केन्द्र या त्रिकोण से सम्बन्ध बनाकर सूर्य आपको गंजा कर सकता है इस स्थिति में आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें।
चन्द्रमा के कारण बाल पतले एवं कमजोर हो जाते हैं। इसलिए सावन माह में दूध और चावल से बनी खीर से शिवलिंग का अभिषेक करें।
☸ अत्यधिक सख्त बालों का कारण मंगल होता है इसके लिए मंगलवार को गरीबों को भोजन करायें।
☸ जब शुक्र अशुभ अवस्था में हो तो बालों का स्वरुप बिगड़ जाता है और जातक तनावग्रस्त हो जाता है जिसके कारण बालों का टूटना प्रारम्भ हो जाता है। ऐसे स्थिति में आपको शुक्रवार के दिन मंदिर में चावल व दूध का दान करना चाहिए।
☸ राहुदेव बालों की दशा को शुभ और अशुभ बनाते हैं जिनके बाल 23-27 साल की उम्र के बीच गिरने शुरु हुए हैं उन्हें राहु से सम्बन्धित उपाय अपनाना चाहिए।
☸ जिनके बाल 28-36 साल की उम्र के बीच गिरने शुरु हुए हैं वे मंगलवार को बच्चों का बेसन की मिठाई दें।
☸ जिनक बाल 37-45 वर्ष की आयु में गिरने प्रारम्भ हुए हैं उन्हें शनिवार के दिन ‘‘ओम रा राहवे नमः का जाप करना चाहिए।

READ ALSO   कुण्डली के किन योगों से मिलती हैं स्टाॅक मार्केट में सफलता