वक्री शनि देंगे इन राशियों को उत्तम लाभ

शनि का वक्री होना 

वर्तमान समय में शनि अपनी मूलत्रिकोण राशि कुम्भ में विराजमान है तथा शनि का राशिपरिवर्तन 2.5 वर्षों में होता है, ऐसे में शनि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वर्ष 2025 तक अपनी ही मूल त्रिकोण राशि में विराजमान रहेंगे। ग्रहों का राशि परिवर्तन, अस्त एवं उदय एवं वक्री होना सभी राशियों के जातकों को प्रभावित करता है। इसी क्रम में शनि 17 जून 2023 को वक्री अर्थात उल्टी चाल चलने जा रहे हैं और आपको बता दें कि शनि के इस चाल से कई जातकों के जीवन में बड़ा बदलाव आने वाला है।

इतना ही नहीं, शनि कि टेढ़ी दृष्टि की कृपा उनके जीवन की सभी परेशानियों को खत्म कर देगी। शनि 4 नवम्बर तक वक्री अवस्था में रहेंगे और उसके पश्चात मार्गी अवस्था में आ जायेंगे, साथ ही शनि वक्री अवस्था में होकर केंद्र त्रिकोण राजयोग का निर्माण करेंगे जिसका प्रभाव इन पाँच राशियों के जातकों पर अधिक होगा ।

17 जून को शनि वक्री होगे तथा 4 नवम्बर तक वक्री अवास्था में रहेंगे उसके बाद मार्गी हो जायेंगे इस दौरान त्रिकोण राजयोग का निर्माण होगा जो पाँच राशि के जातकों को अधिक प्रभावित करेगा

मेष राशि

शनि का वक्री होना मेष राशि के जातकों के लिए शुभ रहेगा। आपके धन-सम्पत्ति में वृद्धि होगी जिससे आपकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी। धन संबंधित कई परेशानियों से राहत मिलेगी। अचानक धन लाभ प्राप्ति के योग बन रहें हैं तथा कार्य-व्यवसाय के क्षेत्र में भी सफलता मिलेगी। जो लोग बड़े-बड़े उद्योगों से जुड़े हैं उनको भी विशेष लाभ मिलेगा।

वृष राशि

17 जून को शनि वक्री होकर केंद्र त्रिकोण राजयोग का निर्माण करेंगे। फलतः वृष राशि के जातकों के लिए शनि का वक्री होना शुभ फलों की प्राप्ति करायेगा। नौकरी में उन्नति के योग बन रहे हैं तथा जो जातक नौकरी की तलाश कर रहे हैं उन्हें मनचाहे नौकरी का अवसर मिल सकता है। आमदनी में भी इजाफा होगा। इसके साथ ही कार्यालय में नई जिम्मेदारी मिल सकती है। आपके वरिष्ठ आपसे काफी प्रसन्न रहेंगे।

READ ALSO   हथेली पर बनता हो V का निशान तो खुद को समझिए भाग्यवानः-
मिथुन राशि

शनि का वक्री होना आपको विशेष लाभ देगा। लम्बी दूरी की यात्रा का योग बन रहा है इतना ही नहीं, जो जातक विदेश जाने की योजना बना रहे थें उनकी योजना भी पूरी होगी। लम्बे समय से रुका हुआ धन शनि की शुभ कृपा से प्राप्त हो जायेगा। शनि की उल्टी चाल आपके किस्मत का ताला खोल सकती है अतः इस अवधि में कोई भी अवसर जाने नहीं दें।

सिंह राशि

आपको बता दें कि शनि और सूर्य एक दूसरे से शत्रु भावना रखते हैं। इसके बावजूद शनि की उल्टी चाल इस राशि के जातकों के लिए लाभकारी साबित होगा। जिस काम को पूर्ण करने में बार-बार परेशानी आ रही थी वह काम अब आसानी से पूर्ण हो जायेगा। अचानक धनलाभ प्राप्ति के योग भी बन रहे हैं। बिजनेस से संबंधित कोई डील इस अवधि के दौरान पूर्ण हो सकती है जो भविष्य में आपके लिए लाभदायक साबित होगा।

मकर राशि 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि का वक्री होना मकर राशि के जातकों के लिए वरदान साबित होगा। आर्थिक स्थिति पहले से मजबूत होगी। भू-संपत्ति से जुड़ा हुआ कार्य शीघ्र पूर्ण हो सकता है। साथ ही धन का संग्रह करने में भी आप सक्षम होंगे। इतना ही नहीं, आपको बता दें कि आपको सभी भौतिक सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होगी। व्यापार शीघ्र गति से आगे बढ़ेगा। अतः इस अवधि में शनि के बीज मंत्र का पाठ अवश्य करें।

यह राशिपरिवर्तन की एक सामान्य जानकारी हैं जो सभी राशि के जातकों को ध्यान में रखकर विश्लेषण किया जाता हैं।