शास्त्रों से जानें विवाह के बाद किस राशि के पुरुष जातकों की खुल जाती है किस्मत

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी जातक का भाग्य उसकी अवधारणा तथा व्यक्तिगत मान्यताओं के अनुसार बहुत ही ज्यादा भिन्न होती हैं। शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि प्रत्येक 12 राशियों की अपनी-अपनी कुछ विशेषताएं और लक्षण होते हैं जो किसी व्यक्ति के भाग्य के साथ-साथ उनके जीवन के सभी अच्छे और बुरे पहलुओं को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में शास्त्रों के अनुसार एक अतिरिक्त धारणा सभी राशियों के लिए यह भी है कि विवाह जैसे शुभ और पवित्र कार्यों के बाद इन विशिष्ट राशियों के पुरुष जातकों का भाग्य अवश्य ही खुल जाता है तो आइए हम यह जानने का भली-भाँति प्रयास करते हैं कि यह कौन सी राशियाँ हैं जिससे विवाह के बाद उनकी किस्मत खुल जाती हैं साथ ही जातक के भाग्य में दिनों-दिन वृद्धि होती जाती है।

मेष राशि के जातक

बात करें यदि मेष राशि वाले पुरुष जातकों कि तो इस राशि के जातक बहुत ही ज्यादा महत्वकांक्षी और अपने ऊर्जावान स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। आपको बता दें यह ऐसे जातक होते हैं जो अपने द्वारा निर्धारित किये गये किसी भी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हर समय प्रेरित होते हैं। मेष राशि के जातकों का विवाह के बाद भाग्य में एक अलग तरह की वृद्धि होने का अनुभव हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि उनके जीवन में आने वाले एक नये जीवनसाथी का समर्थन उन जातकों को हर मोड़ पर मिलता है जो उन्हें उनके जीवन में बहुत आगे बढ़ने के लिए एक स्थिर आधार प्रदान कर सकता है। मेष राशि वाले जातकों के जीवन में आने वाले नये जीवनसाथी का भावनात्मक और व्यवहारिक समर्थन ही इस राशि वाले जातकों के आत्मविश्वास को बढ़ा सकता है साथ ही जातक को जीवन में अत्यधिक तरक्की करने के नए अवसरों के द्वार खोल सकता है।

वृषभ राशि के जातक

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वृषभ राशि के जातक बहुत स्थिर स्वभाव के होते हैं तथा यह जातक पूरे समाज में अपने व्यवहार के लिए जाने जाते हैं। वृषभ राशि वाले जातकों के पास किसी भी कार्यों को करने की एक अत्यधिक मजबूत नीति होती है जिसके कारण इस राशि के जातक अक्सर करके एक बहुत ही ज्यादा सुरक्षित और आरामदायक जीवन बनाने पर ही अपना पूरा ध्यान केंद्रित करते हैं। विवाह के बाद वृषभ राशि के जातकों का जीवन पूरी तरह से बदल जाता है जैसे ही इस राशि वाले जातकों के जीवन में एक नये जीवनसाथी का आगमन होता है उसी समय से उनके साथी के सामंजस्यपूर्ण और सहायक स्वभाव से जातक का पूरा वातावरण ही अच्छा बन जाता है। वृषभ राशि के जातकों का विवाह हो जाने के बाद उनकी भावनात्मक स्थिरता, निर्धारित लक्ष्य, अपने साथी की सुरक्षा तथा कल्याण की भावना अत्यधिक बढ़ जाती है साथ ही उनके किस्मत में अत्यधिक बदलाव ला सकते हैं।

READ ALSO   Solar Eclipse – 21 June 2020
कर्क राशि के जातक

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कर्क राशि के जातक अपने घर परिवार के पालन पोषण तथा अपने अच्छे स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। इस राशि के जातक अपने भावनात्मक संबंधों को महत्व देते हैं साथ ही अपने रिश्तों में हर समय अपनेपन की गहरी भावना चाहते हैं। यूँ कहें तो कर्क राशि के जातकों का विवाह के बाद ही किस्मत खुल सकती है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कर्क राशि वाले जातकों के जीवन में एक बहुत ही अच्छे जीवनसाथी का आगमन होता है तथा उन्हें अपने जीवनसाथी की सहायता हर पल प्राप्त होती है इसके अलावा उन्हें एक प्यार करने वाला जीवनसाथी मिलता है जो उनके घनिष्ठ पारिवारिक जीवन में उन सभी की इच्छाओं को साझा करता है। कर्क राशि के जातकों को विवाह से मिलने वाली भावनात्मक संतुष्टि और स्थिरता उनके सम्पूर्ण भाग्य पर एक सकारात्मक प्रभाव डालती है।

सिंह राशि के जातक

सिंह राशि के पुरुष जातकों की बात करें तो इस राशि के जातक हमेशा से ही अपने आत्मविश्वास और अपने जीवन में एक चमत्कारिक स्वभाव से जाने जाते हैं। इस राशि के जातक हमेशा से ही कुछ ऐसा बड़ा काम करके सुर्खियों में रहना चाहते हैं तथा दूसरे किसी व्यक्तियों से अत्यधिक मान्यता और प्रशंसा प्राप्त करना चाहते हैं। ऐसे मे सिंह राशि वाले जातकों के भाग्य में दिनों दिन वृद्धि का अनुभव विवाह के बाद ही हो सकता है। विवाह हो जाने के बाद इस राशि के जातकों को उनके जीवनसाथी का समर्थन हर पल मिलने लगता है, जिससे जातक के आत्मविश्वास में ज्यादा बढ़ोत्तरी होती है। उनका यह आत्मविश्वास ही जातक के लिए समृद्धि के नये अवसरों के द्वार खोल देती है। कर्क राशि वाले जातकों को विवाह के बाद ही उनके अनुभव और उनके आपसी प्रोत्साहन से ही जातक की सम्पूर्ण सफलता और पूर्णतः में योगदान कर सकते हैं।

READ ALSO   कब लग रहा साल का दूसरा सूर्य ग्रहण
तुला राशि के जातक

तुला राशि के पुरुष जातकों की बात करें तो यह जातक हमेशा अपनी कूटनीति और सामंजस्यपूर्ण स्वभाव के लिए ही जाने जाते हैं। तुला राशि के जातक हमेशा अपने सभी रिश्तों में संतुलन बनाकर चलने वाले होते हैं साथ ही अपने जीवन में एक सामंजस्यपूर्ण संबंध बनाकर रहना चाहते हैं। विवाह के बाद तुला राशि वाले जातकों के जीवन में एक अलग तरह का बदलाव देखने को मिलता है। विवाह के बाद अपने जीवनसाथी के सहयोग और अपने काम में किये गये साझेदारी से जातक को हर क्षेत्र में लाभ की प्राप्ति होती है। आपको बता दें विवाह के बाद जीवनसाथी के सहयोग से लिये गये निर्णय से जातक के घर परिवार में एक बहुत ही सकारात्मक और अनुकूल वातावरण बन सकता है जिससे तुला राशि के जातकों के सम्पूर्ण भाग्य में वृद्धि होती हैं साथ-साथ उनके जीवनसाथी उनके हर सुख-दुख में पूर्ण योगदान देते है।

धनु राशि के जातक

धनु राशि वाले जातक हमेशा से ही  साहसी और अनुकूल स्वभाव रखने के लिए जाने जाते हैं। इस राशि के जातक हमेशा आगे बढ़ने के लिए नये-नये अवसरों की तालाश में रहते हैं। धनु राशि वाले जातकों का विवाह हो जाने के बाद इनकी किस्मत पूरे तरीके से बदल जाती है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि धनु राशि के जातक अपने जीवनसाथी के साथ एक अलग तरह के अनुभव और नये रोमांच की शुरुआत करते हैं। यूँ कहे तो इनके जीवनसाथी का सहयोग ही उनके प्रोत्साहन और आशावादी विचारों को बढ़ावा दे सकता है साथ ही अपने जीवनसाथी के साथ मिलकर एक रोमांचक अवसरों को एक सकारात्मक परिणाम भी दे सकता है।

READ ALSO   जानिये क्या है सही शुभ मुहूर्त
कुंभ राशि के जातक

कुंभ राशि के जातक हमेशा से ही अपने स्वतंत्र जीवन जीने तथा अपने नये-नये विचारों को प्रकट करने के लिए जाने जाते हैं। कुंभ राशि के जातकों के पास हमेशा एक अनोखा दृष्टिकोण होता हैं तथा कुंभ राशि के जातक इस पूरी दुनिया पर अपना सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए हमेशा से प्रेरित रहते हैं। इसके अलावा कुंभ राशि के जातक बहुत ही ज्यादा शर्मीले और शांत स्वभाव के होते हैं यह जातक किसी चीजों को लेकर बहुत गहन विचार करने वाले बुद्धि से तेज तथा दूसरों की हमेशा मदद करने वाले होते हैं। विवाह हो जाने के बाद कुंभ राशि के जातक के भाग्य में निरन्तर वृद्धि देखने को मिलती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि विवाह के बाद इन जातकों को अपने लिए एक ऐसा साथी मिलता है जो उनके कहे जाने वाले किसी भी बातों को आपस में साझा करता है तथा उन्हें किसी भी क्षेत्रों में आगे बढ़ने के लिए समर्थन देता है। विवाह के बाद ही जातक के लिए अपने साथी का सहयोग और आपसी प्रेरणा से ही जातक को सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।