04 फरवरी 2024 विश्व कैंसर दिवस

कैंसर दिवस की बात करें तो पूरे विश्व में 04 फरवरी को प्रत्येक वर्ष विश्व कैंसर दिवस के रूप में मनाया जाता है। प्रत्येक वर्ष कैंसर दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि लोगों को इस बीमारी की पहचान करने तथा इसके लक्षणों के बारे में जानकर इसके रोकथाम के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सके। इस पूरी दुनियाभर में मौत का दूसरा कारण कैंसर होता है और कैंसर जैसी यह बीमारी प्रति वर्ष लगभग 10 मिलियन से भी अधिक लोगों की जान ले लेता है।

प्रत्येक वर्ष 04 फरवरी को ही क्यों मनाते है विश्व कैंसर दिवस

04 फरवरी को प्रत्येक वर्ष विश्व कैंसर दिवस के रूप में इसलिए मनाया जाता है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय कैंसर संगठन ने 04 फरवरी के इस दिन को विश्व कैंसर दिवस के रूप में चुना गया था। अंतर्राष्ट्रीय कैंसर संगठन के नेतृत्व में यह दिन पूरे विश्वभर में कैंसर से जुड़े हुए प्रत्येक मुद्दों पर जागरूकता फैलाने और कैंसर से जुड़े हुए प्रत्येक मुद्दों पर जागरूकता फैलाने और कैंसर से जुड़ी जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

इसके अलावा विश्व कैंसर दिवस का चयन 04 फरवरी को ही इसलिए किया गया क्योंकि इस दिन को याद करने से पहले लोग नये साल की उत्सुकता के साथ नये संकल्प लेने और स्वास्थ्य सम्बन्धित विभिन्न परेशानियों से भी निपटने का समय होता है।

विश्व कैंसर दिवस का इतिहास

विश्व कैंसर दिवस 04 फरवरी 2000 को पेरिस में न्यू मिलेनियम के लिए कैंसर के खिलाफ विश्व शिखर सम्मेलन अस्तित्व में आया। इसकी स्थापना यूनियन फाॅर इंटरनेशनल कैंसर कंट्रोल (UICC) के द्वारा कैंसर की बीमारी में जागरूकता बढ़ाने तथा इसकी रोकथाम पहचान और उपचार को प्रोत्साहित करने के लिए किया गया था। उस समय के रिपोर्ट के अनुसार लगभग 12.7 मिलियन लोग कैंसर से पीड़ित थे और लगभग हर साल कैंसर की बीमारी के कारण अपनी जान गॅवा रहे थे।

READ ALSO   नवरात्रि के अवसर पर माँ दुर्गा चालीसा का हिन्दी अनुवाद

विश्व कैंसर दिवस का महत्व

विश्व कैंसर दिवस हमारे साथ-साथ पूरे विश्व के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह दिवस कैंसर के वैश्विक प्रभाव की ओर विशेष ध्यान आकर्षित करता है साथ ही कैंसर जैसे मुद्दों को उजागर करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। उस मंच के दौरान मानव जीवन के कैंसर जैसी बीमारी के नुकसान को कम करने तथा उस बीमारी की शुरूआती पहचान और उसके उपचार तक पहुँचने में पूरी तरह से सक्षम होता है। इसके अलावा प्रत्येक वर्ष इसी दिन दुनिया भर के होने वाले अभियानों को एकजुट करके पूरे विश्व के व्यक्तियों, परिवारों और समुदायों पर कैंसर के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के लिए सभी व्यक्तियों, सरकारों और तमाम संगठनों के साथ मिलकर कैंसर जैसी बीमारी से निपटने का हर संभव प्रयास करता है।

विश्व कैंसर दिवस मनाने का उद्देश्य

प्रत्येक वर्ष 04 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाने के पीछे का सबसे बड़ा उद्देश्य यह था की कैंसर से पीड़ित लाखो लोगों की संख्या से कमी करना तथा कैंसर के कारण होने वाली मृत्यु दर में कमी लाना है। इसके अलावा कैंसर पीडित जातको में इसके लक्षणों की पहचान करना तथा उनमें जागरुकता बढ़ाना, लोगों को इस बीमारी से लड़ने के लिए शिक्षित करना तथा सरकारी और गैर सरकारी संगठनों को दुनिया भर में इस बीमारी के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार करना है।

इस दिवस को मनाने के पीछे का एक और उद्देश्य यह था कि लोगो के मन में कैंसर के संबंध में फैली गलत धारणाओं को कम कर इससे जुड़ी हुई सही जानकारी के बारे में लोगो तक पहुँचा सके।

READ ALSO   गाँधी जयन्ती

इस दिवस के द्वारा कैंसर पीड़ित मरीजों को मोटीवेट करने के लिए एक बहुत ही अच्छा प्रयास किया गया था बिना बाल के सेल्फी (No Hair Selfie) का इस अभियान को द्वारा पूरे वैश्विक स्तर पर चलाया गया जिस आभियान में लोगों ने अपने बाल कटवाये और इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर किया गया ताकि वैश्विक स्तर पर जो लोग कैंसर के इलाज के दौरान अपने बाल गंवा देते हैं वे अपने आप को और लोगों से अलग न समझें और उनका मनोबल इस अभियान से लड़ने के लिए और मजबूत हो सके।

विश्व कैंसर दिवस की थीम क्या है ? (इस वर्ष)

विश्व कैंसर दिवस की योजना के अनुसार अगले तीन वर्ष 2022, 2023 तथा 2024 के लिए विश्व कैंसर दिवस की थीम ‘क्लोज द केयर गैप’ तय की गई थी इसलिए इस वर्ष यानि 2024 की थीम भी यही रहेगी।