10 मार्च 2024 फाल्गुन अमावस्या

फाल्गुन अमावस्या के बारे में बात करें तो फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या तिथि को फाल्गुन अमावस्या के नाम से जाना जाता है। यह अमावस्या तिथि एक व्यक्ति के लिए सुख, सम्पत्ति तथा सौभाग्य की प्राप्ति करने का प्रतीक होता है। सनातन परम्परा के अनुसार फाल्गुन अमावस्या तिथि का महत्व न सिर्फ धार्मिक है बल्कि ज्योतिष के दृष्टिकोण से भी इस तिथि का काफी ज्यादा महत्व है। मान्यता के अनुसार इस दिन किसी तीर्थ में श्रद्धापूर्वक स्नान और दान, साधना तथा आराधना करने से तमाम तरह के दोष दूर हो जाते हैं। फाल्गुन अमावस्या की यह तिथि पितृों के किसी कार्य के लिए भी अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। लिंग पुराण के अनुसार यदि फाल्गुन माह की अमावस्या तिथि सोमवार, शनिवार, मंगलवार तथा गुरूवार को हो तो यह स्थिति सूर्यग्रहण से भी बहुत ही ज्यादा फलदायी मानी जाती है।

फाल्गुन अमावस्या में क्या करें और क्या न करें

☸ फाल्गुन अमावस्या के शुभ दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें। सूर्यदेव को अर्घ्य देकर मोक्ष प्राप्त करने के लिए पितरों का तर्पण करें।

☸ उसके बाद शिव जी के मंदिर जाकर शिव जी का दूध और शहद से अभिषेक करें।

☸ शिव जी को काला तिल चढ़ाएं, इसके अलावा पीपल के पेड़ के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाकर पीपल के वृक्ष की 7 बार परिक्रमा करें।

☸ उसके बाद आरती करके गरीब और जरूरतमंद लोगों को दान-दक्षिणा दें।

☸ फाल्गुन अमावस्या के दिन रात को सुनसान जगहों पर जाने से बचें अन्यथा नकारात्मक शक्तियों का आपके अंदर प्रवेश हो सकता है।

READ ALSO   26 अक्टूबर से 13 नवम्बर तक हो जाये इस राशि के जातक सावधान

☸ इस तिथि पर दूसरे लोगों के घर पर अन्न खाने से बचना चाहिए।

☸ इस दिन अपने मन पर नियंत्रण रखना चाहिए तथा लड़ाई-झगड़ा करने से बचना चाहिए।

☸ इस तिथि पर नये वस्त्र, झाडू तथा तेल खरीदने से बचना चाहिए इसके अलावा किसी भी तरह के शुभ कार्यों को करने से बचना चाहिए।

☸ बाल और नाखून नही काटना चाहिए अन्यथा धन हानि हो सकती है।

☸ इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए मांस-मदिरा के सेवन से बचना चाहिए।

फाल्गुन अमावस्या शुभ मुहूर्त

10 मार्च 2024 को फाल्गुन अमावस्या रविवार के दिन मनाई जायेगी।
कृष्ण अमावस्या प्रारम्भः- 09 मार्च 2024 शाम 06ः17 मिनट से।
कृष्ण अमावस्या समाप्तः- 10 मार्च 2024 दोपहर 02ः27 मिनट तक।