20 जनवरी 2024 मासिक कार्तिगाई

हिन्दू धर्म के पंचांग के अनुसार मासिक कार्तिगई का यह पर्व प्रत्येक माह में कृतिका नक्षत्र के दौरान मनाया जाता है। दक्षिण भारत में मासिक कार्तिगई का पर्व बहुत ही ज्यादा धूमधाम से मनाया जाता है इस दिन की मान्यता के अनुसार भगवान शिव स्वयं शिव ज्योत के रूप में प्रकट हुए थे इसलिए इस पर्व में विशेष रूप से शिव जी की भी पूजा की जाती है तथा शिव जी के साथ भगवान कार्तिकेय की भी उपासना की जाती है तथा दीपावली की तरह ही पंक्ति बद्ध तरीके से भी ज्योत जलायें जाते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मासिक कार्तिगई की पूजा में शिव जी की पूजा अवश्य करनी चाहिए। इस दिन शिव जी की पूजा करने से जातक के जीवन में से सभी संकट हमेशा के लिए दूर हो जाते हैं तथा जातक के जीवन में एक नयी ऊर्जा का संचार होता है।

क्यों मनाया जाता है मासिक कार्तिगाई पर्व

मान्यता के अनुसार शिव जी स्वयं को ज्योत के रूप में परिवर्तित कर लिया था इसलिए मासिक कार्तिगई दीपम पर भगवान शिव जी के ज्योति स्वरूप का पूजन किया जाता है। इसके पीछे की कहानी कुछ इस प्रकार थी कि जब ब्रह्मा और विष्णु जी के बीच श्रेष्ठता को लेकर विवाद हुआ तो शिव जी ने ज्योति स्तम्भ के रूप में प्रकट होकर दोनों से इसके प्रारम्भ और अंत को खोजने को कहा तभी से भगवान शिव जी के इस ज्योति स्वरूप का पूजन किया जाता है।

मासिक कार्तिगाई पूजा विधि

इस दिन प्रातः काल जगकर सबसे पहले देवों के देव महादेव को प्रणाम करें, उसके बाद नित्य कर्मों से निवृत्त होकर स्नान करके स्वच्छ हो जायें। गंगाजल को अपने घर में छिड़ककर आचमन करें और सफेद वस्त्र धारण करें। उसके बाद सूर्यदेव को अर्घ्यं देने के बाद शिव जी की पूजा फल, फूल, भाँग, धतूरा, धूप, घी इत्यादि से विधिपूर्वक पूजा-पाठ करें। अंत में आरती करने के बाद सुख-समृद्धि की प्राप्ति करें।

READ ALSO   कर्क संक्रान्ति 2023

मासिक कार्तिगाई शुभ मुहूर्त

मासिक कार्तिगाई 20 जनवरी 2024 को शनिवार के दिन मनाया जायेगा।