24 फरवरी 2024 मासी मागम

बात करें यदि हम मासी मागम के त्योहार की तो यह त्योहार मुख्य रूप से तमिलनाडु और केरल में मनाया जाता है। यह एक अत्यन्त महत्वपूर्ण त्योहार है। ज्योतिष शास्त्रों में मासी मागम को सत्ताईस सितारों में से एक माना जाता है। मासी मागम का त्योहार आमतौर पर पूर्णिमा तिथि के दिन मनाया जाता है इसलिए इसे दक्षिण भारत में विशेष रूप से तमिलनाडु, पाण्डिचेरी और केरल राष्ट्रों में बहुत ही शुभ माना जाता है। मासी मागम का यह त्योहार वर्ष में केवल एक बार ही आता है। इस दिन बृहस्पतिदेव सिंह राशि में प्रवेश करते हैं। दक्षिण क्षेत्र के लोगों के द्वारा यह त्योहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है साथ ही बहुत से पवित्र कार्यों, अनुष्ठानों को करके भी पूजा की जाती है। यह पर्व मासी मागम माघ के साथ संरेखित होने के बाद साल का सबसे शक्तिशाली पूर्ण चंद्र दिवस माना जाता है। इसके अलावा यह राजाओं और पूर्वजों का जन्म सितारा होता है। इस दिन की पूजा श्रद्धापूर्वक कर लेने से जातक के अंदर उत्पन्न अहंकार भी पूरी तरह समाप्त हो जाता है।

मासी मागम पूजा विधि

☸ मासी मागम के दिन लोग अलग-अलग मंदिरों में भगवान विष्णु और भगवान शिव की मूर्तियां झांकी के साथ ले जाकर समुंद्र के किनारे पूजा-अर्चना करके उनके सामने अपनी मनोकामनाएं रखते हैं।

☸ इस दिन मंदिर की लगभग सभी मूर्तियों को पारंपरिक तरीके से अनुष्ठानों के अनुसार समुंद्र तालाब या झील में स्नान कराया जाता है।

☸ इसके अलावा मासी मागम पर्व के दिन कुछ मंदिरों में गज और अश्व पूजा भी की जाती है।

READ ALSO   वर लक्ष्मी व्रत कथा, महत्व, शुभ मुहूर्त एवं पूजा विधि

☸ सभी भक्त इस दिन के पवित्र अवसर पर समुद्र में स्नान करते हैं जिससे समुद्र के पवित्र जल के द्वारा उनके समस्त पापों का नाश हो जाता है।

☸ दक्षिण भारत के क्षेत्र में मासी मागम का त्योहार एक अलग तरह की श्रद्धा से बहुत ही धूमधाम और दिव्य तरीके से मनाया जाता है।

मासी मागम शुभ मुहूर्त

मासी मागम का त्योहार 24 फरवरी 2024 को शनिवार के दिन मनाई जायेगी।
मागम् नक्षत्रम् प्रारम्भः- 23 फरवरी 2024 शाम 07ः25 मिनट से
मागम नक्षत्रम् समाप्तः- 24 फरवरी 2024 रात्रि 10ः20 मिनट तक।

error: