Sakat Chauth सकट चौथ, 29 जनवरी 2024

सकट चौथ का यह व्रत माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस चौथ के दिन भगवान गणेश जी के साथ-साथ हनुमान जी की आराधना भी की जाती है। सकट चौथ का यह व्रत सभी स्त्रियाँ अपने संतान की दीर्घायु और उन्हें सफलता प्राप्त कराने के लिए रखती हैं। इसके अलावा सकट चौथ के प्रभाव से संतान को ऋद्धि- सिद्धि की भी प्राप्ति होती है तथा जातक के संतान के जीवन में आने वाली हर प्रकार की विघ्न व बाधाएं हमेशा के लिए दूर हो जाती हैं। इस दिन सभी स्त्रियाँ पूरे दिन निर्जला उपवास रखकर शाम के समय में गणेश पूजन करने तथा चंद्रमा को अर्घ्य देने के पश्चात ही अन्न ग्रहण करती हैं। इस दिन भगवान गणेश जी की पूजा करने से जातक के संकट दूर हो जाते हैं साथ ही जातक को विद्या तथा बुद्धि की प्राप्ति भी होती है।

सकट चौथ पूजा विधि

☸ सकट चौथ वाले दिन प्रातः काल ब्रह्म मुहूर्त में स्नानादि करके पवित्र होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें।

☸ सकट चौथ का यह व्रत सभी स्त्रियों के द्वारा यदि संभव हो तो निराजल रखना चाहिए।

☸ इस दिन पीले वस्त्र पहनें तथा पूजा स्थल के आगे पीला आसन बिछाकर भगवान शिव, भगवान गणेश तथा मां पार्वती की पूजा करें।

☸ पूजा के दौरान मंदिर में धूप, दीपक, काले तिल के लड्डू, गुड़ के लड्डू, ईख, शकरकंद, अमरूद, गुड़, तथा घी के साथ 11 या 21 दूर्वा भी आर्पित करें।

☸ संध्याकाल के समय में सर्वप्रथम गणेश जी की पूजा करें उसके बाद ही चंद्र उदय हो जाने के बाद चंद्रदेव को अर्घ्य देकर अपना व्रत पूर्ण करें।

READ ALSO   सूर्य की महादशा का फल

☸ सकट चौथ के दिन काले तिल का प्रसाद खाने तथा दान-दक्षिणा करने की परंपरा बहुत ही ज्यादा शुभ मानी जाती है।

☸ इस दिन श्रद्धापूर्वक भगवान गणेश जी की पूजा-अर्चना करने से भगवान गणेश आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।

सकट चौथ शुभ मुहूर्त

सकट चौथ का व्रत 29 जनवरी 2024 को सोमवार के दिन मनाया जायेगा
चतुर्थी तिथि प्रारम्भः- 29 जनवरी 2024 सुबह 06ः10 मिनट से।
चतुर्थी तिथि समाप्तः- 30 जनवरी 2024 सुबह 08ः54 मिनट तक।