Maasik Shivaratri 2024, मासिक शिवरात्रि के दिन, इन कार्यों का अवश्य त्याग करें

मासिक शिवरात्रि का पर्व भगवान शिव को समर्पित है। हर माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन पूरी श्रद्धा के साथ व्रत और पूजा-पाठ करने से सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है। ग्रंथों में उल्लेख है कि देवी लक्ष्मी, इंद्राणी, सरस्वती, गायत्री, सावित्री, सीता, पार्वती ने भी भगवान शिव की आराधना करने के लिए शिवरात्रि का व्रत और पूजन किया था इस तिथि पर माता पार्वती संग शिव का विवाह हुआ था एक और मान्यता अनुसार इसी दिन भोलेनाथ पहली बार शिव लिंग के रूप में प्रकट हुए थे।

मासिक शिवरात्रि पूजा विधि

☸ परिक्रमा के दौरान, जब दूध बह रहा हो, तो वहाँ रुक कर वापस घूमकर परिक्रमा करें।

☸ मासिक शिवरात्रि के दिन सुबह उठकर भगवान शिव और माता पार्वती का ध्यान करके अपने दिन की शुरुआत करें।

☸ उसके बाद, स्नान करें, साफ कपड़े पहनें और मंदिर की सफाई करें। भगवान शिव का अभिषेक दूध और गंगाजल से करें।

☸ इस दौरान ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। उसके बाद, भगवान शिव को धतूरा, फूल, भांग, और बेलपत्र आदि अर्पित करें।

☸ अब आरती और शिव चालीसा का पाठ करें। उसके बाद, विशेष भोग चढ़ाएं और अंत में प्रसाद को लोगों में बांटें।

मासिक शिवरात्रि के दिन, निम्नलिखित कार्यों का अवश्य त्याग करें

☸ तामसिक भोजन का सेवन न करें।

☸ पंचामृत में तुलसी दल को शामिल न करें।

☸ शिव जी को तिल भी अर्पित न करें।

☸ भगवान शिव की पूजा के समय, शिवलिंग की पूरी परिक्रमा कभी भी नहीं लगानी चाहिए।

READ ALSO   वर्ष 2023 में कब मनाई जायेगी चित्रगुप्त पूजा जाने इस लेख के माध्यम से तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

☸ मासिक शिवरात्रि के व्रत के दौरान,कृपया काले रंग के कपड़े पहनने से बचें, क्योंकि ऐसा करना अशुभ माना जाता है।

मासिक शिवरात्रि पूजा मुहूर्त

मासिक शिवरात्रि 08 फरवरी 2024 बृहस्पतिवार के दिन मनाया जायेगा।
कृष्ण चतुर्दशी तिथि प्रारम्भः- 08 फरवरी 2024 सुबह 11ः17 मिनट से,
कृष्ण चतुर्दशी तिथि समाप्तः- 09 फरवरी 2024 सुबह 08ः02 मिनट तक।