घर में किसी भी दिशा में है वास्तु दोष तो इन मंत्रों का करें जाप, दूर हो जाएंगी बाधा

वास्तु दोष सबसे बुरे दोषो की श्रेणी में से एक माना जाता है क्योंकि यह एक ही बार में आपके व्यक्तित्व और व्यवसायिक जीवन दोनों को प्रभावित कर सकता है। ज्योतिष में वास्तु यानि गलत दिशा में चीजों का स्थान या समग्र संरचना वास्तु दोष की ओर ले जाती है वास्तु दोष जातक के लिए नकारात्मक ऊर्जा और विनाश की ओर ले जाता है। जिससे आपका जीवन अस्त व्यस्त हो जाता है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि किसी ज्योतिष से परामर्श करके हमेशा अपने घर को वास्तु अनुकूल बनाने का प्रयास करना चाहिए।

खराब वास्तु का विपरीत प्रभाव

वास्तु के उत्तर दिशा जातक के वित्त पर शासन करती है यह दिशा इस बात का निर्णय लेती है कि आप जीवन में कितनी तरह धन अर्जित करेगा या मौद्रिक रुप से करंगे उत्तर दिशा में किसी प्रकार का वास्तु दोष हो तो इस सफल जीवन के लिए दोष को दूर करना चाहिए।

आइए जानते हैं प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य के. एम. सिन्हा जी वास्तु दोष के गलत प्रभाव

💮 ज्योतिष के अनुसार घर की पश्चिम दिशा में वास्तु दोष, सीने की बीमारी व हृदय रोग एवं दरिद्रता जैसी समस्याएं उत्पन्न करता है साथ ही साथ आपके विवाह में देरी जैसी समस्याओं का देखकर या घर की बेटी के जीवन मे कोई समस्या लगता है तो ऐसी दशा में किसी से भी किसी भी प्रकार का तनाव है तो घर की पश्चिम दिशा को ज्योतिषी रुप से सुधारना चाहिए।
💮 जिन लोगों के घर या व्यवसायिक स्थल पर वास्तु दोष हो तो उन्हें कानूनी दिक्कतें हो सकती हैं आखों से जुड़ी समस्यायें और कार्यों मे नुकसान जैसी समस्याएं आती है।
💮 वास्तु में उत्तर पूर्व दिशा सबसे महत्वपूर्ण होती है। क्योंकि यह जातक के भाग्य और भाग्य से जुड़ी होती है। उत्तर पूर्व दिशा में वास्तु दोष दुर्घटना, सर्जरी, कानूनी, विवाद और निराशा की सामान्य भावना जैसे दुर्भाग्य लाता है।
💮 अगर घर के उत्तर पूर्व दिशा में वास्तु के अनुकूल नही है तो यह जातक के लिए हृदय रोग और मानसिक पीड़ा का कारण बनता है। इसलिए वास्तु के अनुसार मुख्य प्रवेश द्वार, भूमिगत पानी की टंकी, मंदिर या रसोई कभी भी जमीन के उत्तर पूर्व कोने में नही बनाना चाहिए।
💮 दक्षिण पूर्व दिशा जातक की मानसिकता व उनकी शांति से जुड़ी होती है दक्षिण पूर्व दिशा में किसी भी प्रकार का वास्तु दोष मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।
💮 दक्षिण पश्चिम दिशा किसी भी घर के निवासियों के व्यक्तिगत सम्बन्धों को नियंत्रित करती है। दक्षिण-पश्चिम दिशा से निकलने वाली कोई भी नकारात्मकता या नकारात्मक ऊर्जा धन की हानि और घरेलू समस्याओं का कारण बन सकती है।
💮 यदि आपके पास अपनी जमीन पर एक निजी घर बना हुआ है तो घर में वास्तु दोष के उपायों का अभ्यास करना आसान है।

READ ALSO   मन पर काबू पाने के ज्योतिषीय उपाय

वास्तु दोष को दूर करने के लिए वास्तु नियम

वास्तु मंत्र के देवता वास्तु पुरुष हैं जिन्हें काल पुरुष के नाम से जाना जाता है, वास्तु पुरुष किसी स्थान की आत्मा या ऊर्जा को संदर्भित करता रहता है। वास्तु पुरुष सिर के बल जमीन में उल्टी स्थिति में लेट जाता है। उसी स्थिति में उसके पैर दक्षिण-पश्चिम दिशा में इंगित करते है। सिर उत्तर पूर्व में है बाएं और दाएं हाथ क्रमशः दक्षिण पूर्व और उत्तर-पश्चिम दिशाओं में स्थिति है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वास्तु पुरुष के पेट ये ब्रह्मा वास करते हैं जिन्हें ब्रह्माण्ड के निर्माता के रुप में जाना है। सर्वोत्तम अवस्था होने पर वास्तु पुरुष जातक को प्रचूर मात्रा में धन स्वास्थ्य और मन की शांति का आशीर्वाद देता है वास्तु पुरुष को समर्पित वास्तु मंत्र का पाठ करने से जातक के परिसर में शांति और खुशी का माहौल बनता है। वास्तु मंत्र का पाठ मात्र सकारात्मक ऊर्जा की पुष्टि करता है। जो प्रकृति को ऊर्जा के साथ तालमेल बिठाती है।

वास्तु पुरुष मंत्रः- ज्यादातर मनुष्य अनजाने में घर पर या किसी अन्य स्थान पर काम कर रहे होते हैं। जहां हम रहते है या उसमे समय बिताते हैं जिससे वास्तु दोष हो सकता हैं। वास्तव में हमारे आस-पास हमेशा कुछ न कुछ होता है जो हमारे लिए वास्तु दोष पैदा कर सकता है। वास्तव में हमारे आस-पास हमेशा कुछ न कुछ होता है। जो हमारे लिए वास्तु दोष पैदा कर सकता है। ऐसे में वास्तु पुरुष मंत्र का जाप करना चाहिए।

वास्तु पुरुष मंत्र
नमस्ते वास्तु पुरुषाय भूशय्या भिरत प्रभा ।
मद्गृहं धन धान्यादि समृद्धिम् कुरु सर्वदा ।।

वास्तु मंत्र जाप के लाभ
वास्तु पुरुष मंत्र जाप से जातक के जीवन और घर में शांति और सद्भाव लाता है।
अगर कोई वास्तु दोष है जो आपकी जागरुकता के बिना आपको प्रभावित कर रहा है तो इस वास्तु पुरुष मंत्र का जाप करने से निपटने में सहायक होती है।
आफिस में वास्तु पुरुष मंत्र का जाप करने से रचनात्मकता में मदद मिलता है।
मंत्र की सबसे अच्छी बात यह है कि इस वास्तु मंत्र का जाप करने के लिए किसी मुहूर्त की आवश्यकता नही है। इसका कोई भी कहीं भी जाप कर सकता है।

READ ALSO   स्वपन ज्योतिष से जाने सपने में सांप काटने का अर्थ तथा क्या है यह आपके लिए शुभ या अशुभ

वास्तु दोष निवारण मंत्र

ओम वास्तोष्पते प्रति जानीद्यस्मान स्वावेशो अनमी वो भवान यत्वे महे प्रतितन्नो जुषस्व शन्नो भव द्विपदे शं चतुष्प्दे स्वाहा

उत्तर दिशा के लिए वास्तु मंत्र कुबेर गायत्री मंत्र

 भगवान कुबेर देवी मां लक्ष्मी की पूजीपती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भगवान कुबेर की पूजा या उत्तर दिशा में कुबेर मंत्र का जाप करने से जातकों को धन लाभ की प्राप्ति होती है। वास्तु में उत्तर दिशा जातक के वित्त से जुड़ी होती है और इसलिए कुबेर मंत्र का जाप उत्तर दिशा की ओर मुख करके किया जाता है।

घर की उत्तर दिशा के लिए वास्तु मंत्र है

भगवान कुबेर देवी महालक्ष्मी के पूजीपति है। उनका मंत्र
ओम यक्षराजय विद्महे वैश्रवणाय धीमहि। तन्नो कुबेर प्रचोदयात्

अर्थ हम यक्षो के राजा और विश्वन के पुत्र कुबेर का ध्यान करते है। धन के देवता हमे प्रेरित और प्रकाशित करें।

कुबेर गायत्री मंत्र के जाप के लाभ

 उत्तर दिशा वित्त से जुड़ी है और भगवान कुबेर भी हैं इसलिए कुबेर भी कुबेर गायत्री मंत्र का जाप घर की उत्तर दिशा के वास्तु और इस प्रकार आपके वित्त को मजबूत कर सकता है। उत्तर दिशा की ओर मुख करके इ समंत्र का जाप करने से पदोन्नति या नौकरी में तेजी से बुद्धि होती है। मंत्र के जाप से उत्तर दिशा को भाग्यशाली बनाने में मदद मिलती है और भाग्य में वृद्धि होती है।

यम गायत्री मंत्र

वास्तु शास्त्र के अनुसार भगवान यम मृत्यु और दक्षिण दिशा के अधिपति हैं मृत्यु देवता दक्षिण दिशा से सम्बन्धित पहलुओं को मजबूत या कमजोर कर सकते है। वास्तु शास्त्र में घर की दक्षिण दिशा कानूनी मुद्दों काम की हानि और बीमारियों से जुड़ी है। इसलिए यम भगवान को प्रसन्न करने का दक्षिण के वास्तु को नियंत्रण में रखने से आपके जीवन में ऐसी समस्याओं का आगमन रुक सकता है। ऐसा करने से यम गायत्री मंत्र मदद कर सकता है।

घर के दक्षिण दिशा के लिए वास्तु मंत्र है

ओम सूर्यपुत्राय विद्महे महाकालाय धीमहि तन्नो यमः प्रचोदयात् ।

READ ALSO   Q1. What is panch mahapurush yoga?

अर्थ ओम मुझे सूर्य देव के पुत्र का ध्यान करने दो, हे समय के महान भगवान मुझे उच्च बुद्धि दो और मृत्यु के देवता मेरे मन को रोशन करें।

यम गायत्री मंत्र का जाप के लाभ

यम गायत्री मंत्र का जाप करने से स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं दूर रहती है। मंत्र का जाप आमतौर पर मृत्यु पर किया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यह जातक को बाद की दुनिया में एक सहज संक्रमण बनाने में सहायक होता है।
दक्षिण दिशा में इस गायत्री मंत्र का लगातार जाप करने से उस नकारात्मक प्रभाव को ठीक करता है।
यदि प्रेम जीवन में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है या विवाह में देरी हो रही तो सर्वोत्तम लाभ के लिए नियमित रुप से इस मंत्र का जाप करें।

सूर्य गायत्री मंत्र

घर में किसी भी दिशा में है वास्तु दोष तो इन मंत्रों का करें जाप, दूर हो जाएंगी बाधा 1
वास्तु के अनुसार घर की पूर्व दिशा सूर्य द्वारा शासित होती है साथ ही पूर्व दिशा जातक की मान्यता और प्रेम जीवन से जुड़ी होती है। इसलिए यदि जीवन में इनमें से किसी भी पहलू में मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है तो पूर्व दिशा से आने वाले दोषों को सुधारना और सूर्य भगवान को प्रसन्न करना मदद कर सकता है। पूर्व दिशा के लिए सूर्य गायत्री मंत्र ऐसा करने से सहायता करता है।

मंत्रः- भास्कराय विद्महे महादुव्याधिकराया धीमहि तन्नो आदित्य प्रचोदयात्।।

अर्थ:- मुझे दिन के निर्माता सूर्य देव का ध्यान रने दो मुझे उच्च बुद्धि दो और भगवान सूर्य को मेरे मन को रोशन कर दो।
लाभः– सूर्य गायत्री मंत्र का जाप व्यक्ति को निडर बनाता है। घर की पूर्व दिशा में सूर्य गायत्री मंत्र का जाप करने से व्यक्ति की आंखों की रोशनी में सहायता मिलती है और आंखों पर सम्बन्धित बीमारियों से व्यक्ति की रक्षा होती है। सूर्य गायत्री मंत्र अशुभ पूर्वी दिशा के कारण होने वाले किसी भी नकारात्मक प्रभाव ठीक करता है। यदि प्रेम जीवन में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है या विवाह में देरी हो रही है तो सर्वोच्च लाभ के लिए नियमित रुप से इस मंत्र का जाप करें।

One thought on “घर में किसी भी दिशा में है वास्तु दोष तो इन मंत्रों का करें जाप, दूर हो जाएंगी बाधा

Comments are closed.